जेल अधीक्षक को जान से मारने की धमकी देने वाले अमन साव के गुर्गों की तलाश हुई शुरू

पलामू। कोयलांचल का कुख्यात डॉन अमन साव के गुर्गों की तलाश पलामू पुलिस ने शुरू कर दी है. अमन साव और उसके गुर्गों के खिलाफ मेदिनीनगर टाउन थाना में गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है. अमन साव ने पलामू सेंट्रल जेल के अधीक्षक जितेंद्र कुमार को जान से मारने की धमकी दी थी।

पिछले दिनों अमन साव ने पलामू सेंट्रल जेल के अधीक्षक जितेंद्र कुमार को जान से मारने की धमकी दी थी, जिसके बाद अब उसपर गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है. इससे पहले गिरिडीह के जेलर पर भी अमन साव ने धमकी देने के बाद हमला किया था. वहीं अब अमन की धमकी के बाद पलामू सेंट्रल जेल और सुपरिटेंडेंट की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. अमन साहू के गुर्गों ने व्हाट्सएप वीपीएन कॉल के माध्यम से सुपरिटेंडेंट को धमकी दी थी. पूरे मामले में सुपरिटेंडेंट ने पलामू पुलिस को एक पत्र भी लिखा है.

अमन साव करता है सुजीत सिन्हा के गुर्गों का इस्तेमाल

पलामू पुलिस ने अमन साव और सुजीत सिन्हा गिरोह से जुड़े गुर्गों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी है. अमन साव को पलामू पुलिस मामले में रिमांड पर लेगी और पूछताछ करेगी. एफआईआर दर्ज करने के बाद पलामू पुलिस अमन साव को रिमांड पर लेने की तैयारी कर रहे हैं. पुलिस अधिकारियों को जानकारी मिली है कि अमन साव सुजीत सिन्हा गिरोह से जुड़े हुए गुर्गों का इस्तेमाल करता है. मिली जानकारी के अनुसार अमन साव सुजीत सिन्हा गिरोह से जुड़ा हुआ था, बाद में वह अलग हो गया. सुजीत सिन्हा के अधिकतर गुर्गे के पलामू इलाके के ही हैं. अलग होने के बाद अमन शाह अपराधिक घटनाओं के लिए पलामू के ही गुर्गों का इस्तेमाल कर रहा है.

पलामू के मोहम्मदगंज में रेलवे के फ्रेट कॉरिडोर का निर्माण कर रही कंपनी पर हमले के मामले में पुलिस ने जनवरी 2022 में रिमांड पर लिया था. इस दौरान अमन साव ने पुलिस अधिकारियों को बताया था कि सुजीत सिन्हा और उसके बीच पैसों को लेकर विवाद हुआ था, जिसके बाद दोनों अलग अलग हो गए थे. सुजीत सिन्हा गिरोह से जुड़े हुए गुर्गों को ही वह पलामू के इलाके में अपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल कर रहा है. अमन शाह ने पुलिस को बताया था कि सुजीत सिन्हा का खास गुर्गा हरी तिवारी उसके लिए काम करता है.

अमन साव के नाम पर वीपीएन कॉल के माध्यम से दिया गया धमकी

पलामू सेंट्रल जेल के सुपरिटेंडेंट को अमन साहब गिरोह से जुड़े हुए सदस्यों ने वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) कॉल के माध्यम से धमकी दी गई है. करीब आधा दर्जन बार धमकी के लिए कॉल का इस्तेमाल किया गया है. अमन साव जेल के अंदर मोबाइल और अन्य सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए जेल प्रबंधन पर दबाव बना रहा है. हाल ही में अमन साव के परिजनों ने पलामू के अधिकारियों से मुलाकात कर सेंट्रल जेल के अंदर मुलाकात करने की मांग की थी.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *