दो कैदियों के फरारी होने के बाद एसएसपी ने किया रिम्स कैदी वार्ड का निरीक्षण

रांची। रिम्स में इलाजरत दो कैदी के फरार होने के बाद मंगलवार को रांची के एसएसपी किशोर कौशल, सदर डीएसपी ने कैदी वार्ड का निरीक्षण किया निरीक्षण कर सुरक्षा का जायजा भी लिया. एसएसपी ने कैदी वार्ड में जो कमियां हैं उन कमियों को जल्द से जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया. ताकि आगे से इस तरह की घटना ना हो पाए. एसएसपी ने बताया कि रिम्स में झारखंड के विभिन्न जिले से कैदी को विशेष चिकित्सा की आवश्यकता होने पर भर्ती कराया जाता है. रिम्स में उन कैदी के लिये विभिन्न जिलों से आने वाले बल की जिम्मेदारी है कि उनपर निगरानी रखनी चाहिये. समीक्षा के दौरान पाया गया कैदी वार्ड में बल की आवश्यकता है. यह पता चला कि बाहर से आने वाले बल ड्यूटी के लापरवाह रहते हैं. एसएसपी ने कहा कि सुरक्षा में लगे लापरवाह पुलिसकर्मी को बख्शा नहीं जायेगा. पहले भी इस तरह की वारदात हुई है. अस्पताल प्रबंधन से मिलकर बात करेंगे. सीसीटीवी की व्यवस्था की जायेगी.

बाथरूम का ग्रिल तोड़कर फरार हुए थे दो कैदी
झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स 15 अक्टूबर की रात दो कैदी बाथरूम का ग्रिल को तोड़कर फरार हो गये. फरार होने वाले में अमित उरांव और मसरूफ आलम का नाम शामिल है. रिम्स से फरार उग्रवादी अमित उरांव उर्फ भगत करीब तीन माह से इलाजरत था. गुमला पुलिस ने बिशनपुर थाना कांड (संख्या 34/20) में 26 दिसम्बर 2020 को जेल भेजा था. लोहरदगा जिले के सेन्हा थाना क्षेत्र स्थित गुड़गांव निवासी अमित उरांव को तबीयत खराब होने के बाद जेल के माध्यम से 19 जुलाई 2022 को गुमला हॉस्पिटल से बेहतर इलाज के लिए रांची रिम्स भेजा गया था. वही छेड़खानी के आरोप में गिरफ्तार मशरूफ आलम को हजारीबाग पुलिस ने इलाज के लिए रिम्स भर्ती करवाया था. दोनों का रिम्स के कैदी वार्ड में इलाज चल रहा था. मेडिसिन विभाग के डॉक्टरों की निगरानी में दोनों भर्ती थे. रिम्स से कैदी फरार होने की पहली घटना नहीं है. पहले भी कैदी पुलिस को चकमा देकर रिम्स से भाग चुके हैं. कई बार की घटनाओं के बावजूद लापरवाह पुलिस ने सबक नहीं सीखा.

लापरवाही के आरोप में कई लोगों पर हो सकती है कार्रवाई
रिम्स के कैदी वार्ड के शौचालय का रॉड काट कर फरार मामले में जांच के बाद सदर डीएसपी प्रभात रंजन बरवार ने रिपोर्ट एसएसपी किशोर कौशल को सौंप दी है. डीएसपी ने कार्य में लापरवाही बरतने को लेकर आठ पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की है. इनमें रिम्स में तैनात रांची जिला बल के दारोगा नवीन कुमार व हवलदार कोर्निलियस बिलुंग, गुमला जिला बल के राजेंद्र उरांव व मोहन महली, हजारीबाग जिला बल के हवालदार मुनेश्वर भारती व सोमलाल हांसदा और सिपाही विनोद राम, जमशेदपुर जिला बल का गंदूर गोप है. एसएसपी ने रांची जिला बल के पुलिसकर्मियों को शो-कॉज किया है. वहीं, हजारीबाग एसपी, गुमला एसपी व जमशेदपुर एसएसपी से कार्रवाई की अनुशंसा की है. हजारीबाग एसपी ने शोकॉज के बाद हवलदार सोमलाल हांसदा को निलंबित कर दिया है. इधर, फरार अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर गुमला और हजारीबाग में पुलिस की अलग-अलग टीम भेजी गयी है. एक टीम गढ़वा भी भेजी जायेगी. पुलिस जांच में जुटी हुई है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *