आजसू पार्टी पूर्व मंत्री योगेन्द्र साव के जेल से रिहा होने पर सदमे में है , अफवाह फैला कर रही छवि खराब: अंबा प्रसाद

रांची। बड़कागांव विधायक अम्बा प्रसाद के मुताबिक जब से पूर्व मंत्री योगेंद्र साव जेल से रिहा हुए हैं, तब से आजसू पार्टी काफी सदमे में है. उनका और उनके पिता योगेंद्र साव की छवि को खराब करने की साजिश कर रहे. इसके लिए वह लोग रामगढ़ और पतरातू में हर छोटी-बड़ी घटना से उनका नाम जोड़कर अफवाह फैलाने लगे हैं. जिस घटना से उनका कोई लेना देना नहीं है, उसमें भी उनका नाम जोड़ा जाता है. विधायक ने कहा कि पतरातू रिजॉर्ट में अगर अज्ञात लोग आपस में झगड़ा कर रहे हैं तो उन्हें उनका समर्थक बता कर बदनाम करने की कोशिश की गयी है.

आजसू पार्टी और कांग्रेसी कार्यकर्ता के बीच है फसाद

मीडिया में गुरुवार को चली इस खबर पर कि उनके पिता योगेंद्र साव को मेलानी गांव, पतरातू (रामगढ़) में घंटों बंधक बनाया गया, इस पर कहा कि वास्तव में जमीन की लड़ाई आजसू पार्टी कार्यकर्ता और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच है. दोनों रैयत होने का दावा कर रहे हैं. ऐसी स्थिति में प्रशासन कागजात प्रस्तुत करने हेतु हस्तक्षेप करता है तो आजसू पार्टी के लोग सीधा यह आरोप लगाते हैं कि विधायक और पूर्व मंत्री के इशारे पर जमीन को हड़पने की कोशिश की जा रही है.

अम्बा ने कहा कि देश में कानून का राज है. कोई किसी की जमीन लूट नहीं सकता है. चाहे वह आजसू पार्टी के हों या कांग्रेस पार्टी के. रैयत अपना पक्ष संबंधित पदाधिकारियों के समक्ष दस्तावेज के साथ रखें. जो सही होंगे, वे उसका साथ देंगी. साथ ही विधायक ने कहा कि गुरुवार को पूर्व मंत्री योगेंद्र साव अपने मित्र माइकल से मिलने मेलानी गांव गए थे. ग्रामीणों को इसकी सूचना मिली तो वे रास्ता में उनका इंतजार करने लगे. उनके पहुंचने पर महिलाओं ने अपना पक्ष रखा. इसके पश्चात पूर्व मंत्री ने उन्हें दस्तावेज लेकर अंचल अधिकारी से मिलने की बात कही और वहां से निकले. आजसू पार्टी द्वारा इस मामले को भी लेकर अफवाह उड़ा दिया गया कि उन्हें बंधक बना लिया गया है. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि 15–20 महिलाएं सड़क पर खड़ी होकर उनसे बात कर रही हैं. आजसू पार्टी के लोग जात–पात, झूठ–अफवाह की राजनीति न करें. वे जनता से सीधे संपर्क में हैं. जनता उनके व्यवहार और संस्कार के बारे में जानती है. इसके लिए किसी को उन्हें प्रमाण पत्र देने की आवश्यकता नहीं है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *