देश के कई हिस्सों में साहिबगंज के चोरों के गैंग का आतंक, पुलिस तलाश में

रांची। देशभर में जामताड़ा साइबर क्राइम के लिए बदनाम है, उसी तर्ज पर चोरी के लिए साहिबगंज जिला कुख्यात है. देश के महानगरो में जब चोरी की घटना को अंजाम दिया जाता है तो वहां की पुलिस साहिबगंज के चोर की तलाश में जुट जाती है. ज्वेलरी दुकानों का शटर काट सोना-चांदी उड़ाने के लिए साहिबगंज के चोर मशहूर हैं. हाल ही में मुंबई के दहिसर पश्चिम इलाके में दीपमाला ज्वेलरी दुकान में सेंधमारी कर फरार हुए चोरों की तलाश में मुंबई पुलिस साहेबगंज पहुंची. मुंबई पुलिस पर आरोपित और उसके परिजन ने हमला कर दिया. इस घटना में मुंबई पुलिस के एक एएसआई घायल हो गये. घटना राधानगर थाना क्षेत्र स्थित पियारपुर गांव का है. हालांकि पुलिस काफी मशक्कत के बाद एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. इसके अलावे साहेबगंज के चोरो का मोबाइल चोरी में भी काफी नाम हैं. स्टोन चिप्स (गिट्टी) के लिए मशहूर साहिबगंज मोबाइल और सोना चोरों के लिए देशभर में जाना जा रहा है. अनेक राज्यों की पुलिस साहिबगंज आ चुकी है. कई अपराधी पकड़े भी गए हैं.

पीएम मोदी की रैली में पहुंचते है साहिबगंज के चोर

साहिबगंज के चोरों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों का बेसब्री से इंतजार रहता है. हिंदी भाषी राज्यों में जहां भी मोदी की रैली होती है यहां के चोर पहुंच जाते हैं. वे भीड़ का फायदा उठाते हैं. लोगों की जेब से मोबाइल उड़ाते हैं. मार्च 2022 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी में रैलियों में साहिबगंज के चोर मोबाईल चोर को कानपुर पुलिस ने पकड़ा था. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत अन्य राजनेताओं की चुनावी रैलियों में मोबाइल चोरी करने वाले शातिर चोर को चकेरी पुलिस ने गिरफ्तार किया था. पुलिस ने साहिबगंज तीन पहाड़ निवासी बंटी कुमार पंडित के पास से 40 मोबाइल बरामद किए था. पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि मोदी की रैली में साहिबगंज के चोर पहुंचते हैं. वह चुनावी रैलियों, बाजारों, मंदिरों और अन्य भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर मोबाइल चोरी करता था.

कई राज्यों का पुलिस को है, यहां के चोरों की तलाश

साहिबगंज के तालझारी, तीनपहाड़ और राधानगर सहित कई अन्य थाना क्षेत्र में हजारो लोग चोरी और सेंधमारी जैसे अपराध को अंजाम देता है. राधानगर थाना क्षेत्र के आधा दर्जन गिरोह के सौ से अधिक युवक शटर काटने का अपराध करते हैं. हाल के दिनों में मुंबई, बंगाल, कर्नाटक समेत कई अन्य राज्यों की पुलिस इन इलाको में आरोपी की तलाश में पहुंचती है. कई राज्यों में साहिबगंज के आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज है. गिरोह के लोग रात के समय बैंकों, आभूषणों की दुकानों और मोबाइल फोन की दुकानों जैसे बड़े प्रतिष्ठानों को निशाना बनाता है. आरोपी दीवारों या छतों में छेद करके दुकानों में सेंध लगाते हैं और चोरी करने के बाद फरार हो जाचा है. मुंबई, दिल्ली, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और गुजरात में चोरी के कई घटना को अंजाम दिया गया है.

बंगाल के रास्ते बांग्लादेश में बेच दिया जाता है चोरी का मोबाईल

साहेबगंज के चोर चोरी के मोबाइल को यहां पर स्टाक करते है. फिर पश्चिम बंगाल के मालदा होते हुए अवैध रूप से बांग्लादेश भेज देता है. इससे अच्छी आमद होती है. मालदा के कालियाचक में इसके लिये एजेंट का रखा गया है. दो वर्ष पूर्व मोबाइल चोर के सरगना को राधानगर थाना क्षेत्र स्थित प्यारपुर से महाराष्ट्र पुलिस और झारखंड पुलिस के सहयोग से गिरफ्तार किया था. आलम शेख महाराष्ट्री के भिवंडी के एक दुकान से अपने सहयोगियों के साथ 400 आई फोन मोबाइल चोरी कर साहिबगंज आ गया था. यहां इसने पश्चिम बंगाल के मालदा के रास्ते चोरी किए गए सभी मोबाइल को बांग्लादेश में बेच दिया.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *