ईडी ने किया सीएम को समन तो सत्ता पक्ष ने बुलाई हाई प्रोफाइल मीटिंग,विपक्ष भी हो रहा तैयार

रांची। खनन घोटाले में राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ईडी ने समन भेजा है. उन्हें 3 नवम्बर को ईडी कार्यालय में बुलाया गया है. इसके साथ ही एक बार फिर झारखंड का सियासी तापमान बढ़ गया है. ईडी के इस समन के बाद जहां राज्य की सत्ताधारी गठबंधन ने आज शाम पांच बजे मुख्यमंत्री आवास पर हाई प्रोफाइल मीटिंग बुलाई है वहीँ भाजपा के बड़े नेता दिल्ली में डेरा डाल दिए हैं. गौरतलब है कि मंगलवार को ईडी ने खनन घोटाले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को समन भेजा है. इसके बाद आज अचानक मुख्यमंत्री ने सत्ताधारी गठबंधन के विधायकों की आपात बैठक बुलाई है. जानकारी के अनुसार आज सुबह से ही सभी विधायकों से संपर्क साधा जा रहा है. दीपावली और छठ पर्व को लेकर लगभग सभी विधायक अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में हैं. मुख्यमंत्री आवास से सभी दलों के विधायक दल के नेता को कह दिया गया है कि वे अपने विधायकों को बैठक के लिए बुलाएं. हालांकि अचानक बुलाई गयी इस बैठक का विषय क्या है इसपर कोई कुछ खुलकर नहीं कह रहा है लेकिन ये बात तो साफ़ है कि यह बैठक ईडी के मुख्यमंत्री को भेजे गए समन को लेकर ही बुलाई गयी है.

दिल्ली में बाबूलाल और दीपक प्रकाश

इधर, राज्य की प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं. जानकारी के अनुसार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश आज अहमदाबाद जायेंगे और वहां वह देश के गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात करेंगे. इधर बाबूलाल मरांडी मंगलवार को ही दिल्ली गए हैं. उनका दिल्ली प्रवास छह नवम्बर तक का है. बताया जा रहा है कि बाबूलाल मरांडी इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और संगठन महामंत्री से मुलाक़ात करेंगे. कहा यह जा रहा है कि पार्टी के भावी राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर दोनों नेता केंद्रीय नेतृत्व से बात करेंगे. लेकिन चर्चा यह है कि मुख्यमंत्री को ईडी का समन मिलने के बाद से ही राज्य में भाजपा भी रेस हो गयी है. इसी मुद्दे पर दोनों नेताओं की राष्ट्रीय नेतृत्व से भी बात होनी है.

भर गया पाप का घड़ा, अब चलेगा चक्र : बाबूलाल

जानकारी के अनुसार आज बाबूलाल मरांडी दिल्ली से वृन्दावन के दौरे पर निकल गए हैं. वृन्दावन से लौटने के बाद वह राष्ट्रीय नेताओं से मिलेंगे. इस बीच बाबूलाल मरांडी ने एक ट्विट किया है और लिखा है कि “ भगवान श्री कृष्ण ने अहंकारी शिशुपाल की 100 गलतियों को माफ़ किया था. विधि का यही विधान है. जब पाप का घडा पूरी तरह से भर जाता है तब ऊपर वाले का चक्र चलता है.”

वहीं एक अन्य ट्वीट में बाबूलाल मरांडी ने एक तस्वीर ट्वीट की जिसमें सीएम हेमंत सोरेन के साथ अमित अग्रवाल और रतन टाटा दिख रहे हैं. इस तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा ‘अपने स्वभाव के विपरीत ये तस्वीर क्षमा मांगते हुए इसलिये पोस्ट करने को मजबूर हुआ कि झारखंड और देश-दुनिया को यह जानने का अधिकार है कि झारखंड को कौन चला रहे थे? तस्वीर में हेमंत सोरेन जी अपने साथ बिचौलिये अमित अग्रवाल को आदरणीय रतन टाटा जैसे सम्मानित व्यक्ति से मिलवा रहे हैं. तस्वीर देखिये और जज कीजिये कि मुख्यमंत्री बड़ा या लूट सरगना अमित अग्रवाल? 1932 खतियानियों के लिये घड़ियाली आंसू बहाने वाले मुख्यमंत्री ने इन्हीं 2020 के “लूट खतियानधारियों” के साथ मिलकर झारखंड का जल-जंगल, जमीन, पहाड़ सबकुछ लूट लिया है. नतीजा सामने आने लगा है. देखते जाइये’.

यूं ही नहीं ईडी ने बुलाया है, आपने लूटा है तो सजा भुगतने के लिए तैयार रहिये

एक अन्य ट्विट में बाबूलाल ने लिखा है कि हेमंत जी शायद यह भूल गये कि जनादेश का मतलब लूट का लाइसेंस नहीं है और वोट से लूट के पाप को कवर नहीं किया जा सकता. आपने लूटा है तो सजा भी भुगतने के लिये तैयार रहिये. देश का क़ानून अपना काम कर रहा है.आप बेक़सूर होंगे तो बेदाग़ निकल जाइयेगा. वैसे पब्लिक सब देख समझ रही है. लिखा है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को अगर #ED ने बुलाया है तो वह यूँ ही नहीं है. इन्होंने पैसे और दौलत की हवस में पूरे राज्य को गुंडे, मवालियों, दलालों, बिचौलियों और मुठठी भर चोर-बेईमान अफ़सरों के हवाले कर खुद सिर्फ़ लूट का माल बटोरने और खपाने के रास्ते खोजने का काम किया है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *