पीएलएफआई के उग्रवादी की अंधाधुंध फायरिंग में एक युवक की मौत

लोहरदगाl पीएलएफआई के उग्रवादी की अंधाधुंध फायरिंग में एक युवक की जान चली गई. इस घटना में मृतक का भाई और पत्नी बुरी तरह जख्मी हो गया है. इनका इलाज रांची के रिम्स में चल रहा है. मृतक की मां के बयान पर तीन उग्रवादियों पर विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. फिलहाल कृष्णा यादव फरार है. पुलिस की दो टीम कृष्णा को पकड़ने के लिए लगातार छापेमारी कर रही है.

बताया जा रहा है कि पीएलएफआई के उग्रवादी कृष्णा यादव उर्फ सुल्तान ने अपने एक सहयोगी के साथ मिलकर मंगलवार की रात्रि को na फायरिंग की. इस गोलीबारी में कुडू के लक्ष्मीनगर में विकास नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई. वहीं, मृतक की पत्नी और भाई राजेश बुरी तरह से घायल हो गए. घटना में घायल दोनों का रांची रिम्स में इलाज चल रहा हैं.मृतक की मां के बयान पर कृष्णा यादव सहित तीन पर उग्रवादियों पर हत्या के अलावा अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. घटना के संबंध मे मृतक के परिजनों ने पुलिस अधिकारियों को बताया कि रविवार शाम एक युवक एक महिला को लेकर घर के बगल में आम के पेड़ के पास संदिग्ध हालात में खड़ा था. इसे देखकर विकास साहू ने दोनों से पूछा कि रात को यहां क्या कर रहे हो? इसी बात को लेकर विकास तथा युवक के बीच विवाद हो गया तथा हाथापाई भी हुई. इसके बाद विकास के परिजन मौके पर पहुंचे तथा विकास को वापस घर ले गए. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पीएलएफआई उग्रवादी कृष्णा यादव उर्फ सुल्तान की भाभी कुड़ू में रहती है. उसी से मिलने रविवार शाम में कृष्णा यादव आया था तथा कृष्णा यादव के साथ ही विकास का विवाद हुआ था. हालांकि सभी घटना को भूल गए थे, परंतु मंगलवार शाम को कृष्णा यादव अपने एक सहयोगी के साथ पहुंचा तथा विकास को मारने के लिए उसके घर पहुंच गया. मंगलवार शाम छह बजे विकास अपने भाई राजेश के घर पर था जब हत्यारे कृष्णा यादव विकास के घर पहुंचकर विकास की पत्नी को कहा कि विकास को बुला दीजिए लकड़ी का आर्डर देना है. जैसे ही विकास पैदल अपने घर के समीप पहुंचा. उग्रवादी कृष्णा ने यह कहते हुए गोली चला दी कि यही विकास है. लगातार चार गोली विकास को लक्ष्य कर दागी गई जिसमें तीन गोली विकास को लगी और एक गोली मिसफायर हो गई. गोली की आवाज सुनकर विकास की पत्नी प्रतिमा देवी दौड़ी तो उग्रवादियों ने पत्नी पर गोली चला दी. इससे प्रतिमा के सीने में एक गोली लगी इससे वह जमीन पर गिर पड़ी. गोली की आवाज सुनकर भाई राजेश साहू मौके पर पहुंचा. उग्रवादियों ने राजेश पर गोली चला दी, जबकि दूसरे उग्रवादी ने चाकू से हमला करते हुए राजेश को घायल कर दिया और मौके से फरार हो गए.”

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *