70 सालों से साइकिल चलाओ, प्रदूषण भगाओ का संदेश दे रहे है गोपाल दत्ता

लोहरदगा। कहते हैं तंदरुस्ती हजार नियामत है. बड़े-बजुर्गों की इसी बात को मानते हुये हम स्वयं को तंदरुस्त बनाये रखने के लिये कई जतन भी करते हैं. इसमें लोग अपनी-अपनी सहूलियत के हिसाब से योग, व्यायाम, स्वीमिंग, एरोबिक्स और साइकिल चलाने को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं. आज भाग दौड़ और आरामतलब जिंदगी में कम दूरी तय करने के लिए भी लोग बाइक, कार आदि का प्रयोग करते हैं। पर लोहरदगा शहरी क्षेत्र स्थित पावरगंज चौक निवासी गोपाल स्टोर के संचालक 87 वर्षीय विजय गोपाल दत्ता जो पिछले 70 वर्षों से साइकिल से ही अपना सारा काम करते आ रहे हैं। जी हाँ हम बात कर रहे हैं गोपाल स्टोर के संचालक विजय गोपाल दत्ता की। श्री दत्ता बाजार के छोटे-मोटे काम के अलावा, मार्निंग वाक, यहां तक की सभी छोटे बड़े कामों के सिलसिले में यहां से वहां जाने के लिए साइकिल का ही इस्तेमाल करते हैं। जिससे उनका शरीर आज भी फिट है.
सूर्योदय के पहले उठें, रात को जल्दी सोयें
श्री दत्ता ने कहा कि सभी बच्चे सुबह सूर्योदय से पहले उठें और रात को जल्दी सोएं. मौसमी फल व सब्जियों का सेवन करें और पैकेट में बंद खाद्य पदार्थों, जंक फूड, कोल्ड ड्रिंक, आदि खाद्य पदार्थों से दूर रहें. इससे उनका मन मस्तिष्क स्वस्थ रहेगा. शारीरिक विकास होगा. वह एक स्वस्थ्य नागरिक बनकर राष्ट्र की सेवा कर सकेंगे.
साइकिल चलाओ, वजन घटाओ
श्री दत्ता ने कहा कि अगर निरोगी रहना है तो तामसिक भोजन और पान, बीड़ी, सिगरेट, गुटका, शराब आदि के सेवन से दूर रहना होगा. उन्होंने बताया की आजकल डॉक्टरों की क्लीनिक में पहुंचने वाले 90 प्रतिशत मरीजों की मुख्य समस्याएं नींद न आना, भूख न लगना और बेचैनी है. इसके अलावा तीन मुख्य बीमारियां हैं डिप्रेशन, हाइपरटेंशन और डायबिटीज इन सभी से मुक्ति तभी मिलेगी जब आपका इम्यून सिस्टम सुदृढ़ होगा. इसलिये साइकिल चलाओ, वजन घटाओ, इम्यूनिटी बढ़ाओ और स्वस्थ रहो.
वेट लॉस के लॉंग राइड्स जरूरी
श्री दत्ता ने झारखण्ड उजाला से विशेष बातचीत में कहा कि साइकिल चलाने से न केवल आप फिट रहते हैं, बल्कि वजन भी बहुत तेजी से घटता है. साइकिल चलाने से शरीर का वजन नियंत्रित रहता है. वह कहते हैं कि वेटलॉस के लिये लंबी दूरी ज्यादा बेहतर रहती है. इससे चर्बी तेजी से बर्न होती है. उन्होंने बताया कि योग और एक्सरसाइज की तरह की साइकिलिंग करना भी एक शारीरिक व्यायाम है. इससे दिल और फेफड़े दोनों स्वस्थ रहते हैं. सुबह के समय साइकिल चलाने से शरीर में दिनभर ऊर्जा बनी रहती है, रात को नींद भी अच्छी आती है. इसलिये कम से 30 से 45 मिनट रोज साइकिल जरूर चलाना चाहिये.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *