हजारीबाग । जिले एवं प्रखंड के सभी मंदिरों में सुहागिनों ने अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए रखा तीज व्रत में 24 घंटे का निर्जला उपवास। शाम में सभी मंदिरों में सैकड़ों की संख्या में महिलाओं ने पूर्ण श्रद्धा एवं आस्था के साथ संपन्न किया पूजा अर्चना एवं ईश्वर से अपने पति के लिए लंबी उम्र की कामना भी की। । जिनमें कुछ नव विवाहित महिलाएं जिनका यह पहला तीज व्रत था उनमें काफी खुशी और आस्था देखने को मिली।
सुहागिन स्त्रियों द्वारा अपने सुहाग की रक्षा हेतु हरितालिका अर्थात तीज का त्यौहार मनाया जाता है । इस पावन व सौभाग्य दायिनि पर्व उमंग व हर्ष उल्लास के साथ भाद्रपद तृतीया तिथि को मनाया जाता है वेद पुराणों में वर्णन है की स्वयं भोलेनाथ ने मां पार्वती को इस व्रत की महिमा सुनाएं इस पर्व को सुहागिनों द्वारा 24 घंटे की निर्जला उपवास रखकर स्त्रियां अखंड सौभाग्यवती के लिए गौरी शंकर की पूजा पूरे विधि विधान से कर मनाती हैं
मंदिरों में सैकड़ों की संख्या में महिलाएं रात भर जाकर ईश्वर का भजन एवं कीर्तन करती नजर आई ।