लोहरदगा l भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा जिला अध्यक्ष प्रकाश नायक के नेतृत्व में पावरगंज चौक पर मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन का पुतला फूंका गया! इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री श्री कमलेश राम शामिल हुए l इस दौरान कहा कि राज्य की हेमंत सोरेन सरकार संविधान की खुलेआम धज्जियां उड़ा रही है! कल भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सह चंदनक्यारी के विधायक श्री अमर कुमार बाऊरी विधानसभा के अंदर कार्य स्थगण प्रस्ताव हेतू माननीय विधानसभा अध्यक्ष को आवेदन दिया परंतु विधायक श्री बाऊरी के बार – बार चीख- चीख कर निवेदन करने पर भी विस अध्यक्ष कार्य स्थगण नही पढ़ा क्योंकि ये दलित आरक्षित सीट से जीतकर आये हैं हेमंत सरकार की दलित के प्रति मानसिकता सही नही है जब- जब सरकार को मौका मिला दलित के ऊपर अत्याचार करता रहा! बता दें कि विधायक श्री बाऊरी कार्य स्थगण प्रस्ताव में लाठीचार्ज व राज्य की अन्य मुद्दे पर बहस चाह रहे थे और ये अधिकार भारतीय संविधान में प्रत्येक विधायक को प्राप्त है। अंततः विधायक को बाहर निकलकर अपना पीडा़ मीडिया को सुनाना पडा़ और सुनाते- सुनाते रो पड़े इससे राज्य के पूरे लगभग पचास लाख दलित समाज को आघात पंहुची है!इस दौरान इन्होंने यह भी कहा कि श्री बाऊरी के आंसू के एक- एक बूंद का हिसाब दलित समाज राज्य सरकार से आनेवाले हर चुनाव में लेगी राज्य सरकार हर मोर्चे में विफल साबित हो रही है सरकार अपने हर चुनावी वादे भूल चुकी है अब इस सरकार के पास तुष्टिकरण राजनीती करने के अलावे कुछ बचा नही है! विधानसभा लोकतंत्र का मंदिर होता है वहां किसी तरह का धार्मिक स्थल अथवा प्रार्थना एवं नमाज अदा करने हेतु कक्ष आवंटन नही करना चाहिए। ये हमारे भारतीय संविधान इसकी इजाजत नही देती है कक्ष आवंटन कर संविधान को ठेंगा दिखाने का काम हेमंत सोरेन ने की है जिसे भाजपा बर्दाश्त नहीं करेगी उतना ही सरकार को मंदिर मस्जिद करना है तो बेहतर होगा विधानसभा के अंदर बाबा साहेब डा० भीम राव अम्बेडकर जी के विशाल मूर्ति लगवाये क्योंकि बाबा साहेब के द्वारा लिखित संविधान से ही विधानसभा और लोकतंत्र है! मौके पर उपस्थित जिलाध्यक्ष प्रकाश नायक, भाजपा महामंत्री बालकृष्णा सिंह, राजू रजक पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष, बजरंग करुआ, अजय पंकज, रामखेलावन राम, कन्हैया करवा, सुरेश बैठा, सुरेश राम, पशुपतिनाथ पारस, मनीष शिखर, बाल्मीकि कुमार, सजल कुमार, बृजेश राम, पवन यादव संजय कुजूर, रामदेव उरांव, अजय उरांव, बरतू बैठा, करबू राम, कलिंदर राम, वीरेंद्र पासवान, अशोक रजक, सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।