साहिबगंज (उधवा): ग्रामीणों ने सड़क पर जमा कीचड़ पर उतरकर धान रोपकर खोली विकास की पोल।दरअसल उधवा प्रखंड के पतौड़ा पंचायत अंतर्गत दरगाडांगा गांव में जंगलपाड़ा जाने वाली सड़क कीचड़ में ऐसी तब्दील हो चुका है कि ग्रामीणों ने कीचड़ में तब्दील हुई सड़क पर उतरकर धान की रोपनी करते हुए क्षेत्रीय मुखिया द्वारा किया गया विकास का पोल खोल दिया है।इस सड़क पर मोटरसाइकिल तो दूर की बात पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। कई दशकों से सड़कों का निर्माण नही होने से सड़कों जर्जर अवस्था में है। गांव के मुखिया जनप्रतिनिधियों और स्थानीय विधायक, सांसद इस गांव की ओर ध्यान तक नहीं दे रहें हैं। सरकार, बिजली,पानी सहित कई योजनाओं के बड़ी बड़ी बाते करते है लेकिन सभी बातें कागजों में ही सिमट कर रह जाती है चुनाव के समय गांव के मुखिया से लेकर बड़े-बड़े नेता गांव की विकास के बड़े-बड़े बातें करते हैं लेकिन चुनाव खत्म हो जाते हैं और सभी वादे हवा हवाई हो जाते हैं।लोग भरोसा जताते हुए चुनाव में नेताओं को जिताते है, चुनाव खत्म हम आपके है कौन हो जाते है।यह सड़क बनवाने के लिए कई बार वार्ड पार्षद,मुखिया तथा अन्य अधिकारी को एत्तेला करने के बावजूद सड़क का हाल ज्यों का त्यों ही है। आखिरकार ग्रामीणों ने आक्रोश में आकर सड़क पर धान की रोपनी कर दिया।इस पर ग्रामीण सरफराज अहमद ने बताया कि यह सड़क पिछले तीन सालों से कीचड़ में तब्दील हो चुका है।यह सड़क के ठीक नहीं होने से आधा KM दूरी को पूरी करने के लिए 3 से 4 किलोमीटर घूमना पड़ता है। इस सड़क की मरम्मत के लिए हमने क्षेत्रीय वार्ड सदस्यों को कई मर्तबा बोला है लेकिन अभी तक इस सड़क की मरम्मती नहीं हो पाई है।वहीं ग्रामीण दिलदार शेख ने बताया कि इस सड़क के लिए हमने वार्ड सदस्य साबिर अली,अनवर उर्फ भोला,मुखिया सोना टुडू पंचायत सेवक दयानंद को कई बार बताया परंतु यह सड़क की मरम्मत नहीं हो पाया हमने मुखिया को घर से लाकर इस सड़क को दिखाया यहां तक कि पंचायत सेवक दयानंद को भी सड़क पर लाकर दिखाया परंतु किसी ने भी इस सड़क की मरम्मत नहीं कराया।दिलदार ने आगे कहा कि पंचायत में वार्ड सदस्य,मुखिया सभी के घर और सभी के घर जाने वाली सड़कें पक्की हो चुकी है लेकिन हम गरीब ग्रामीणों को आने जाने के लिए सड़क की मरम्मत तक नहीं करता है। हम अखबार के माध्यम से सरकार तक आवाज पहुंचाना चाहते हैं कि इस सड़क की जल्द से जल्द मरम्मत किया जाए। मौके पर सरफराज अहमद, दिलदार, याकूब सेख, मोहसेन शेख,मन्नान शेख,रब्बुल शेख,नसीम सेख सहित अन्य बच्चे समेत दर्जनों लोग मौजूद थे।