लोहरदगा l दिनांक 04.09.2021 के आलोक में जिला शिक्षा पदाधिकारी, लोहरदगा-सह-जिला शिक्षा अधीक्षक, लोहरदगा के पत्रांक- 983, दिनांक 08.09.2021 से उनका पक्ष लिया गया। जिला शिक्षा पदाधिकारी-सह-जिला शिक्षा अधीक्षक, लोहरदगा द्वारा प्रस्तुत पत्र के अवलोकन से यह स्पष्ट हो रहा है कि आप स्वेच्छाकारी, अनुशासनहीन शिक्षक हैं। दबाव की राजनीति करते हुए अराजक स्थिति उत्पन्न करने का प्रयास कर रहे हैं एवं जिला प्रशासन की छवि को धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं। आपके उपर विद्यालय के सामग्री को जबरजस्ती उपयोग के लिए लेकर जाने, सरकारी भवन को अपने व्यक्तिगत कार्यों के लिए उपयोग में लाने कार्यालय के अभिलेख को जबरजस्ती अपने साथ ले जाने संबंधी गम्भीर आरोप है।

आपके द्वारा दिनांक 04.09.2021 को समर्पित आवेदन के आलोक में अधोहस्ताक्षरी द्वारा सहमति प्रदान नहीं की गई है। इसके बावजूद आपके द्वारा आज दिनांक- 11.09.2021 को समाहरणालय गेट के सामने मंच एवं माईक लगाकर नजायज रूप से 20-25 लोगों की भीड़ एकट्ठा कर अनर्गल भाषण दिया जा रहा है। मंच पर कोविड-19 के नियमों का सरासर उल्लंघन भी किया जा रहा है।

अतः आपको सख्त चेतावनी दी जाती है कि इस प्रकार के अवैध कृत को तत्काल बंद करें एवं अपने नियंत्री पदाधिकारी से नियमानुसार वार्तालाप करते हुए समस्या का विधिक हल ढूंढें। साथ ही आप अपना स्पष्टीकरण भी समर्पित करें कि क्यों नहीं आपके विरूद्ध कठोर वैधानिक कार्रवाई प्रारम्भ की जाय।