• गोस्सनर कॉलेज में पटकथा लेखन कार्यशाला के समापन समारोह में सर्टिफिकेट वितरण किया गया

रांची । गोस्सनर कॉलेज के मास कम्युनिकेशन एंड वीडियो प्रोडक्शन विभाग में पटकथा लेखन कार्यशाला के समापन समारोह की शुरुआत शानदार तरीके से की गई । कार्यक्रम की शुरुआत सेम -6 के छात्र प्रवीण साहु के द्वारा स्वागत से किया गया।

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए सेमेस्टर-6 के छात्र दिनकर आनंद ने पिछले 9 दिनों की पटकथा लेखन कार्यशाला की संक्षिप्त जानकारी दी। कॉलेज की प्रिंसिपल प्रो ईलानी पूर्ती ने विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किया एवं सभी प्रशिक्षु को बधाई दी। उनके वक्तव्य के बाद कार्यशाला में शामिल सभी प्रशिक्षुओं को सर्टिफिकेट दिया गया। जिसका मंच संचालन सेमेस्टर-6 की छात्रा शुभांगी शिफा ने किया।
विद्यार्थियों का हौसला बढ़ाते हुए डॉ प्रशांत गौरव ने कहा कि “नदी बिन जल अधूरा, आत्मा बिन शरीर अधूरा”, उसी तरह से विद्यार्थी के बिना शिक्षक अधूरे हैं, तथा उन्होंने कहा कि खींचो ना कमानो को न तलवार निकालो जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो।
विद्यार्थियों को प्रोत्साहन करते हुए प्रो आईजक कंडूलना, और प्रो.बूंदीप लकड़ा ने कुड़ुख और मुंडारी में गीत प्रस्तुत किए, जो हमारी झारखंडी प्रकृति पर आधारित थी।
इस कार्यशाला में उपस्थित सभी अतिथियों ने सभी विद्यार्थियों का मनोबल बढ़ाते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। कार्यशाला के मेंटर प्रो.अनुज कुमार ने प्रशिक्षुओं से कहा कि स्टेशन का अगला मॉड्यूल भी आयोजित किया जाएगा तथा कुछ ही दिनों में साउंड की भी कार्यशाला आयोजित की जाएगी ।

कार्यशाला के अंतिम दिन में कॉलेज की प्रिंसिपल प्रो. इलानी पूर्ति, कॉलेज की वर्षर प्रो. आशा रानी केरकेट्टा, प्रो डॉ प्रशांत गौरव, कॉमर्स विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो श्यामलेश कुमार, प्रो डॉ. सुब्रतो सिन्हा, प्रो.आइज़क कंडुलना, प्रो. बूंदीप लकड़ा, प्रो.डॉ. आरती शर्मा, प्रो.डॉ.बलबीर केरकेट्टा, प्रो. निवेदिता डांग, प्रो.महिमा गोल्डन , प्रोफेसर अनुज कुमार, प्रो. संतोष कुमार, प्रो.पूजा उरांव तथा प्रो.अनुराग पूर्ती साथ ही अन्य सभी विद्यार्थी उपस्थित थे।