सरायकेला । झारखंड प्रगतिशील शिक्षक संघ सरायकेला-खरसावां के आवाहन पर 14 और 15 सिंतबर को जिले के शिक्षक शिक्षिकाओं ने काला बिल्ला लगाकर वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव के बयान पर विरोध किया | शिक्षकों ने कहा कि वित्त मंत्री के गैर जिम्मेदाराना बयान से सरकारी विद्यालयों में कार्य कर रहे शिक्षक शिक्षिकाओं को आघात पहुंचा है | वे इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे | संघ के प्रदेश आईटी सेल प्रभारी मंगल सिंह बेसरा ने कहा कि शैक्षणिक महौल के बारे में मंत्री ने जो बयान दिया है वह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है. यह बयान शिक्षकों का मनोबल गिराने वाला है | संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सह ज़िला अध्यक्ष ब्रजमोहन यादव ने कहा कि सरकारी विद्यालयों के शिक्षक गुणवत्तायुक्त शिक्षण कार्य के अलावे गैर शैक्षणिक कार्यों को बखूबी कर्मठता के साथ करते हैं. सरकार के निर्देश पर जब भी जहां भी कार्य दिया जाता है, उस जवाबदेही को सरकारी शिक्षक ईमानदारी से निभाते आ रहे हैं. उन्होंने मांग की कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए सरकार अविलम्ब शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यो से मुक्त करें \ संघ के कौशिक गांगुली ने कहा कि शिक्षकों का आंदोलन वित्तमंत्री के माफी मांगने तक जारी रहेगा | इसके बाद शिक्षक 16 एवं 17 को ट्विटर एवं फेसबुक के माध्यम से आन्दोलन करेंगे |

इन्होंने लगाया काला बिल्ला
काला बिल्ला लगाकर विरोध जताने वाले शिक्षकों में पंचू मार्डी, फुदन, बीराजमय मंडल, संतोष कुमार महतो, कल्याण रॉय, सुशील महतो, सृस्टिधर महतो, सुदीप मुखर्जी, मृत्युंजय कर, रंजीत कुमार, पुरुषोत्तम प्रधान, जुल्फिकार अली, प्रदीप कुमार, बिक्रम बोदरा, अक्षय घोष, नानिगोपाल महतो, इंदर कौर, श्रीकांत किस्कु, सुजाता प्रजापति, पार्वती हिस्सा, अणिमा धान, गौरीशंकर, सविता महतो, बिपिन बिहारी महतो, बिजय कुमार महतो, पूनम सिंह, सीमा महतो, सेवती महतो, सिखा मेम, मुंगली मेम, हेमलता ठाकुर, दलगोबिंद नायक, दुर्गाचरण पाल, निराकार महतो, इंद्रजीत महतो, उमेश सर, दुलाराम बास्के, जगबंधु रजक, भगीरथी मुंडा, प्रदीप कुमार माझी, कृष्ण कुमार दास, जितेंद्र सरदार, हबीबुर रहमान, रतन पाल, लीना दास, आरागेबुल इस्लाम, सुशीलदार सरदार, प्रहलाद मंडल, दीपक सिंहदेव आदि शामिल थे |