जमशेदपुर । आरवीएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में बुधवार को इंजीनियर्स डे का आयोजन धूमधाम से किया गया. कॉलेज के शिक्षक व छात्र छात्राओं ने भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्मदिन भी मनाया.कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के अधीक्षक स्वागत दीपक कुमार उपस्थित थे. कॉलेज के प्राचार्य प्रो. डॉ आरएन गुप्ता ने मुख्य अतिथि को गुलदस्ता देकर सम्मानित किया. कॉलेज के कोषाध्यक्ष शत्रुध्न सिंह ने उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया. मुख्य अतिथि ने अपने संबोधन में कहा कि इंजीनियर्स बनाने में शिक्षकों का बहुत बड़ा योगदान होता है. एक शिक्षक के बिना इंजीनियर्स समेत किसी पद पर जाना मुमकिन नहीं है. इस अवसर पर कॉलेज के प्राचार्य ने उपस्थित सभी शिक्षकों को इंजीनियर्स डे की शुभकामनाएं दी. प्रो. डॉ राजेश कुमार तिवारी ने कहा कि देश में बायो प्रोडक्ट पर काम करने की जरूरत है |तभी देश तरक्की कर सकेगा |

एनटीटीएफ-आर डी टाटा टेक्निकल इंस्टीट्यूट स्टील सिटी जमशेदपुर में यूं तो इंजीनियरिंग के एक से बढ़कर एक नायाब नमूने हैं, लेकिन जब बात इंजीनियरिंग की होगी तो एम विश्वेश्वरैया का नाम अवश्य लिया जाएगा. कार्यक्रम का शुभारंभ प्राचार्य सतीश जोशी ने दीप जलाकर व विश्वेश्वरैया के चित्र पर पुष्प अर्पित कर किया. सतीश जोशी ने कहा कि भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म 15 सितंबर1860 को कर्नाटक के मैसूर राज्य के मुदेनाहल्ली गांव में हुआ था. स्नातक परीक्षा में सर्वोच्च अंक आने पर मैसूर के महाराजा ने इन्हें पुणे स्थित कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में पढ़ने के लिए भेजा.आगे प्राचार्य ने टाटा स्टील के प्रति विश्वेश्वरैया के योगदान को भी बताया. मौके पर पंकज गुप्ता, रमेश राई , पंकज, अजीत, हरीश कुमार, दीपक सरकार, मनीष कुमार, नकुल, प्रीति, मनीषा, ज्योति, बीरेंद्र आचार्य आदि मौजूद थे |