लोहरदगा । उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो की अध्यक्षता में समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित योजनाओं व कार्यों की समीक्षा की गई। उपायुक्त द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (वर्ष 2021-22), मुख्यमंत्री सुकन्या योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की समीक्षा की गई और छूटे हुए लाभुकों को योजना से अच्छादित किये जाने का निदेश दिया गया। वार्षिक लक्ष्य के अनुरूप कार्य करने का निदेश दिया गया। अतिकुपोषित बच्चों को एमटीसी केंद्रों में रेड जोन से ग्रीन जोन में आने के बाद एमटीसी केंद्र से छुट्टी दिये जाने के समय उनके स्वास्थ्य की जांच किये जाने जाने और एमटीसी केंद्रों में उनकी विशेष रूप से देखभाल किये जाने का निदेश दिया गया। आंगनबाड़ी केंद्रों में एलपीजी की उपलब्धता से संबंधित वास्तविक स्थिति का प्रतिवेदन विभाग को भेजे जाने का निदेश दिया गया। आंगनबाड़ी केंद्रों में विद्युत कनेक्शन के निष्पादन का निदेश कार्यपालक अभियंता, विद्युत प्रमण्डल, लोहरदगा को दिया गया। जिन आंगनबाड़ी केंद्रों में पेयजल की व्यवस्था नहीं है वहां जल्द पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निदेश कार्यपालक अभियंता, पेयजल एवं स्वच्छता प्रमण्डल, लोहरदगा को दिया गया। आंगनबाड़ी केंद्रो में शौचालय की व्यवस्था के लिए 15वें वित्त आयोग की राशि से, अगर गाईडलाइन लागू होती हों तो, निर्माण कराये जाने लिए प्रखण्ड स्तर से अग्रेतर कार्रवाई कराने का निर्देश समाज कल्याण पदाधिकारी को दिया गया। शौचालय निर्माण के लिए प्राक्कलन बनाने का निदेश कार्यपालक अभियंता, पेयजल एवं स्वच्छता प्रमण्डल, लोहरदगा को दिया गया। उपायुक्त द्वारा पूरक पोषाहार कार्यक्रम, आंगनबाड़ी केंद्रों में वजन मापी मशीन, सेविका/सहायिका का कोविड टीकाकरण, सेविका व सहायिका के रिक्त पदों की स्थिति की भी समीक्षा की गई। साथ ही, खराब वजनमापी मशीनों की जगह नये मशीनों की मांग विभाग से करने, सेविका व सहायिकाओं का शत-प्रतिशत कोविड टीकाकरण कराने और सेविका-सहायिका के रिक्त पदों को भरे जाने का निदेश दिया गया। बैठक में बाल संरक्षण पदाधिकारी को जिले के अनाथ बच्चों को स्पाॅन्सरशिप कार्यक्रम के अंतर्गत आर्थिक लाभ ससमय दिये जाने का निदेश दिया गया। साथ ही जिला शिक्षा अधीक्षक के जरिये शिक्षकों ओर से ऐसे बच्चों की पहचान करने का भी निर्देश दिया गया ताकि छूटे हुए अन्य बच्चों को भी लाभ मिल सके। उपायुक्त द्वारा तेजस्विनी परियोजना के तहत संचालित कार्यक्रम की भी समीक्षा की गई और सरकारी विद्यालयों के बच्चों को छात्रवृति राशि के लिए छूटे हुए आधार सीडिंग का कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया गया। साथ ही, परियोजना के अंतर्गत संचालित अन्य कार्यों का भी लक्ष्य पूरा करने का निर्देश दिया गया।

बैठक में जिला समाज कल्याण पदाधिकारी मनीषा तिर्की, एसबीसीसी-डीपीसी श्रेया सिंह, बाल संरक्षण पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार, सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, सभी महिला पर्यवेक्षिका समेत अन्य उपस्थित थे।