रामगढ़। राधा गोविन्द विश्वविद्यालय में करम पर्व के पूर्व संध्या पर करम महोत्सव सह सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुआत विश्वविद्यालय पदाधिकारियों की उपस्थिति में पारंपरिक विधि-विधान से हुई । इस मौके पर विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति प्रो. डॉ. एम रज़ीउद्दीन ने सभी को करमा पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि करम पर्व झारखंड की लोक संस्कृति का पर्याय है । यह पर्व भाई बहन के निश्छल प्यार को दर्शाता है । इस अवसर पर माननीय मुख्य अतिथि डॉ. बी एन ओहदार, भूतपूर्व विभागाध्यक्ष, खोरठा विभाग, राँची विश्वविद्यालय, राँची ने कहा करमा पर्व का सीधा संबंध कृषि और पर्यावरण से है जिसे झारखंडी हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं । यह पर्व बेटा बेटी के भेदभाव को मिटाता है । भाई बहनों द्वारा मिलजुलकर मनाने वाला यह पर्व पर्यावरण के साथ रिश्तों को भी मजबूत बनाता है । इस कार्यक्रम में बी.एड, बी.पी.एड, भूगोल, राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, इतिहास, अंग्रेजी एवं क्षेत्रीय भाषा खोरठा विभाग से छात्र-छात्राओं ने पारंपरिक भेष-भूषाओं के साथ मनमोहक लोकनृत्य प्रस्तुत किया एवं जावा प्रतियोगिता में बी एड प्रथम स्थान पर रहा । इस समारोह में राधा गोविन्द शिक्षा स्वास्थ्य ट्रस्ट की सचिव सह कुशल समाजसेविका सुश्री प्रियंका कुमारी, कुलसचिव डॉ. निर्मल कुमार मंडल, वित्त एवं लेखा पदाधिकारी डॉ. संजय कुमार, परीक्षा नियंत्रक डॉ. अशोक कुमार, विश्वविद्यालय प्रबंधकारिणी समिति के सदस्य श्री अजय कुमार एवं विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष, व्याख्यातागण एवं विद्यार्थीगण उपस्थित रहे ।