कुडू/लोहरदगा । दुनिया के पहले इंजीनियर, देवी-देवताओं के लिए भव्य भवन, उनके अस्त्र-शस्त्र, इंद्रलोक, भगवान कृष्ण की द्वारिका नगरी, हस्तिनापुर, स्वर्गलोक और लंका नगरी, पुष्पक विमान, भगवान विष्णु का चक्र और भगवान शिव के त्रिशूल से लेकर यमराज के कालदण्ड तक के निर्माणकर्ता वास्तु और शिल्प देवता भगवान विश्वकर्मा की पूजा शुक्रवार को कुडू प्रखंड क्षेत्र में श्रद्धा व उल्लास के साथ मनाई गई। घर और दूकान के साथ लोहा पार्ट्स की दुकान, डेकोरेशन, आरा मशीन, आटा चक्की मशीन गैराजों सहित विभिन्न प्रतिष्ठानो के संचालकों ने भगवान विश्वकर्मा की प्रतिष्ठापना कर विधिवत पूजा अर्चना हवन पूजन किया। पूजा को लेकर सुबह से ही लोगों में उत्साह रहा फल व मिठाइयों की खरीदारी के लिए दिन भर बाजारों में भीड़ जमा रही। इस दौरान लोगों ने अपने-अपने वाहनों की साफ-सफाई कर उनकी पूजा अर्चना की एवं प्रसाद वितरण किया।