लोहरदगा l हिंडालको के अंडर में कार्यरत बालाजी कंपनी के द्वारा बॉक्साइट नियमित मात्रा में बॉक्साइट खनन नहीं किए जाने से मजदूर परेशान हैं यहा पाखर से लोहरदगा चलने वाले ट्रकों का मजदूरों को हमेशा परेशान किया जाता है मजदूर मजबूरन पत्थर खुद से तोड़ कर लोडिंग करते है जिसमें काफी समस्या का सामना करना पड़ता है खदान में पहुंचने पर मजदूरों से बात करने पर मजदूरों ने कहा यहा मजदूरों के साथ काफी शोषण हो रहा है और कंपनी की ओर से साइज बॉक्साइट पत्थर उपलब्ध नहीं कराया जाता है जिसके कारण मजदूरों को मजबूरन खुद से पत्थर तोड़कर लोडिंग करना पड़ता है मजदूरों का कहना है कि पूर्व से अब तक चालक व मजदूरों को शोषण किया जा रहा है कई बार ऐसा भी हुआ है कि माईनस में जाकर लोडिंग करने के बाद कंपनी के तरफ से यह सूचना दिया जाता है कि अगले आदेश तक माइंस का परिचालन बंद रहेगी फिर लोड ट्रक को अनलोड कर वापस लौटना पड़ता है