भारतीय नागरिकों को अभी यूक्रेन से एयरलिफ्ट करने की कोई योजना नहीं, विदेश मंत्रालय का बयान

हम सतत राजनयिक प्रयासों के जरिये दीर्घकालिक शांति एवं स्थिरता के लिए स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान के पक्षधर हैं.

नयी दिल्ली | भारतीय नागरिकों को अभी यूक्रेन (Ukrain) से एयरलिफ्ट (Airlift) करने की कोई योजना नहीं है. विदेश मंत्रालय ने बयान देकर यह बात कही है. विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत की यूक्रेन से अपने नागरिकों की निकासी की अभी कोई योजना नहीं है. उसका ध्यान नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर है.

शांतिपूर्ण समाधान का पक्षधर है भारत

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा कि हम सतत राजनयिक प्रयासों के जरिये दीर्घकालिक शांति एवं स्थिरता के लिए स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान के पक्षधर हैं. उन्होंने कहा कि कीव में भारतीय दूतावास वहां भारतीय छात्रों के संपर्क में है और जमीनी स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए हैं.

भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की जरूरत

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘हमारा पूरा ध्यान भारतीय नागरिकों, भारतीय छात्रों पर है तथा अन्य बातों को छोड़कर हमें इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने की जरूरत है.’ उन्होंने कहा कि अभी वहां से निकासी की कोई योजना नहीं है और किसी विशेष उड़ान की व्यवस्था नहीं की गयी है.

एयर बबल व्यवस्था के तहत यूक्रेन से सीमित उड़ान सुविधा

यूक्रेन की सीमा पर स्थिति के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यूक्रेन-रूस सीमा पर वास्तव में क्या हो रहा है, इसके बारे में हम ठोस कुछ नहीं कह सकते और जहां तक स्थिति की गंभीरता का सवाल है, यह स्पष्ट है कि जब भी हम कोई परामर्श जारी करते हैं, तो एक आकलन के बाद ही करते हैं. एक अन्य सवाल के जवाब में बागची ने कहा कि भारत और यूक्रेन के बीच एयर बबल व्यवस्था के तहत सीमित उड़ान हैं और उड़ान एवं यात्रियों की संख्या से संबंधित सीमाओं एवं रोक को हटा लिया गया है.

यूक्रेन में शांति चाहता है भारत- विदेश मंत्रालय

उन्होंने कहा, ‘भारतीय विमानवाहकों को भारत और यूक्रेन के बीच उड़ान के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है.’ यूक्रेन को लेकर उत्पन्न स्थिति पर भारत के रुख के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भारत तनाव को तत्काल कम करने और मुद्दों के समाधान के लिए राजनयिक बातचीत का समर्थक रहा है. उन्होंने कहा कि भारत, मिंस्क समझौते को लागू करने की दिशा में किये जा रहे प्रयासों का स्वागत करता है.

भारतीय दूतावास ने शुरू की 24 घंटे के हेल्पलाइन

गौरतलब है कि भारतीय दूतावास ने मंगलवार को भारतीय नागरिकों, खासतौर से छात्रों को सलाह दी थी कि वे मौजूदा हालात के मद्देनजर अस्थायी रूप से देश (यूक्रेन) छोड़ दें. वहीं, बुधवार को विदेश मंत्रालय ने बताया था कि यूक्रेन में भारतीय नागरिकों की मदद एवं सूचना प्रदान करने के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है. इसके अलावा यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने वहां भारतीयों की सहायता के लिए 24 घंटे की हेल्पलाइन शुरू की है.

अतिरिक्त उड़ानों की बन रही योजना

कीव में भारतीय दूतावास ने एक बयान में कहा कि उसे यूक्रेन से भारत के लिए उड़ान उपलब्ध नहीं होने के बारे में कॉल मिल रहे हैं, लेकिन छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे इससे परेशान नहीं हों और भारत यात्रा के लिए जल्द उपलब्ध उड़ान में बुकिंग करायें. बयान में कहा गया है कि अभी यूक्रेन से यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइन, एयर अरेबिया, फ्लाई दुबई और कतर एयरवेज की उड़ानें चल रही हैं. अतिरिक्त मांगों को पूरा करने के लिए आने वाले समय में और उड़ानों की योजना बनायी जा रही है.

रूस ने यूक्रेन पर हमले की योजना से किया इंकार

गौरतलब है कि रूस ने यूक्रेन से लगी सीमा पर करीब एक लाख सैनिकों को तैनात किया है और नौसेना अभ्यास के लिए काला सागर में युद्धपोत भेज रहा है. इसके कारण नोटो देशों को आशंका है कि रूस, यूक्रेन पर हमला कर सकता है. हालांकि, रूस ने यूक्रेन पर हमले की किसी योजना से इंकार किया है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.