कुडू/लोहरदगा l लोहरदगा के किसको थाना क्षेत्र से किसको पुलिस ने कुडू थाना पुलिस और सीआरपीएफ के सहयोग से पीएलएफआई के जोनल कमांडर किसको थाना क्षेत्र के सेमरडीह निवासी संदीप भगत पिता रामकृषण भगत और संगठन के सक्रीय सदस्य अम्बाटोली निवासी नेजाम अंसारी के पुत्र अबारीक़ अंसारी उर्फ़ छोटू को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। इनके पास से पुलिस को एक देसी कट्टा ज़िंदा कारतूस और भारी संख्या में पीएलएफआइ नक्सली संगठन का पर्चा और नक्सली लेटर पैड भी मिले है। पुलिस की गिरफ्त में आए दोनों नक्सलियों ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर पिछले वर्ष 3 जून को लोहरदगा के किस्को थाना क्षेत्र के पाखर बाक्साइट माइंस में बीकेबी और बालाजी कंपनी की 11 गाड़ियों को आग लगाने के अलावा दोनों किसको, कुडू, पेशरार आदि थाना क्षेत्र में लगतार नकस्ली गतिविधियों में शामिल रहे है।संदीप के विरुद्ध अलग-अलग थाना में लूट, डकैती, रंगदारी समेत कई कांडों में मामला दर्ज है। इसी वर्ष 26 जून को संदीप भगत के घर कुर्की करने पहुंची पुलिस ने 5 राइफल बरामद की थी।वहीँ अबारीक़ अंसारी उर्फ़ छोटू ने वर्ष 2017 में कुडू थाना क्षेत्र के सलगी निवासी चन्दरु साहू के 25 वर्षीय पुत्र धान व्यवसायी अक्षय साहू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। बताते चलें कि इस चर्चित हत्या काण्ड में एडीजे 2 न्यायालय के न्यायाधीश चौधरी एहसान मोइज़ की अदालत ने 6 अक्टूबर 2020 को इस हत्याकांड में शामिल कुल 5 अभियुक्तों को आजीवन कारावास की सज़ा के अलावा 30 – 30 हज़ार का जुर्माना भी लगाया था, तब से ही तबारिक फरार चल रहा था। दोनों की गिरफ्तारी को पुलिस की बड़ी उपलब्धि माना जारहा है।

गौर तलब है कि 24 दिसंबर 2017 को तबारिक ने सुपारी लेकर अपने तिन साथियों के साथ सलगी पचंबा मोरम गढ़ा के समीप अक्षय को गोली मार दि थी जिसमे बुरी तरह ज़ख़्मी अक्षय की रिम्स में इलाज़ के दौरान 27-28 दिसंबर की रात मौत हो गयी थी। 28 दिसंबर 2017 में कुडू पुलिस ने मृतक की मां के फर्द ब्यान के आधार पर कुडू थाना काण्ड संख्या 166/17 के तहत मामला दर्ज कर प्रशिक्षु डीएसपी नूर मुस्तफा अंसारी, तत्कालीन कुडू थाना प्रभारी सुधीर प्रसाद, एसआई संजय कुमार ने तत्काल कारवाई करते हुए 30 दिसंबर को ही हत्याकांड का मुख्य सूत्रधार बड़की चापी निवासी सुबोध अग्रवाल के बड़े पुत्र आलोक कुमार अग्रवाल उर्फ़ चीकू, उसका भाई अशिवनी अग्रवाल सुपारी किलर शूटर किस्को थाना के अम्बाटोली निवासी नेजाम अंसारी के पुत्र अबारीक़ अंसारी उर्फ़ छोटू, सहयोगी नारी निवासी सुलेमान अंसारी के पुत्र शकील अंसारी, हुटाप तिसिया निवासी नशीम अंसारी के पुत्र गुलाम गौश अंसारी को गिरफ्तार कर मामले का उदभेदन करने में सफल हुए थे।