पाकुड़ । संतालपरगना प्रक्षेत्र के डीआइजी सुदर्शन मंडल ने मंगलवार को एसडीपीओ कार्यालय पाकुड़ का निरीक्षण किया। एसपी हृदीप पी जनार्दनन, एसडीपीओ अजीत कुमार विमल सहित अन्य पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। डीआइजी के एसडीपीओ कार्यालय पहुंचने पर जवानों ने उन्हें गार्ड आफ आनर दिया। डीआइजी ने करीब साढ़े तीन घंटे तक एसडीपीओ कार्यालय के सभी रिकार्डो को भी चेक किया।डीआइजी ने अनुसंधान पंजी, डकैती पंजी, पर्यवेक्षण पंजी, सरकारी संपत्ति पंजी सहित अन्य पंजियों का अवलोकन किया। पंजियों में मिली खामियों को सुधारने का निर्देश दिया। पंजियों के संधारण और रख-रखाव पर भी विशेष ध्यान देने की बात कही। डीआइजी ने पुलिस निरीक्षक गोपाल कृष्ण यादव, प्रभु सहाय एक्का, सुरेंद्र रविदास से भी केस से संबंधित आवश्यक जानकारी ली। मुफस्सिल थाना प्रभारी अमर कुमार मिज, हिरणपुर थाना प्रभारी मदन कुमार से भी बातचीत की। थानेदारों से समस्याओं पर चर्चा करते हुए समाधान करने और लंबित सभी कांडों का शीघ्र निष्पादन करने का आदेश दिया। एसआर और नन एसआर केस पर चर्चा करते हुए कहा कि किसी भी थाने में केस लंबित नहीं रहे। आम जनता के साथ बेहतर संबंध बनाएं, ताकि अपराध पर अंकुश लगाया जा सके। किसी भी क्षेत्र से सूचना संकलन करने के लिए जनता से बेहतर संबंध बनाना आवश्यक है। अपराध पर अंकुश लगाने के लिए सभी थानेदार सतर्क रहें। किसी भी अपराधिक सूचना पर त्वरित कार्रवाई करें। महिला उत्पीड़न मामले में अधिक गंभीरता बरतें। महिलाओं की शिकायत पर गंभीर रहें। महिलाओं को न्याय मिले, इसका ख्याल रखना आवश्यक है। डीआइजी ने कहा कि जिलेभर में पुलिसिग दिखनी चाहिए। जनता को इतना विश्वास हो जाए कि पुलिस उनके लिए ही काम कर रही है। इधर, पुलिस अधीक्षक हृदीप पी जनार्दनन ने डीआइजी को अवगत कराते हुए बताया कि जनता के बीच बेहतर संबंध बनाने के लिए पुलिस गांव-गांव में बैठक कर रही है। सभी थाना में जनसहयोग समिति का गठन किया गया है। कोई भी व्यक्ति जनसहयोग समिति के पास शिकायत कर सकता है। पुलिस उसपर त्वरित कार्रवाई करेगी। इस मौके पर सार्जेंट मेजर अवधेश कुमार सहित अन्य उपस्थित थे।