लोहरदगा । उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो की अध्यक्षता में आज जिला स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक समाहरणालय सभागार में संपन्न हुई। बैठक में उपायुक्त द्वारा केसीसी के आवेदनों की बैंकवार समीक्षा की गई। समीक्षा के क्रम में जिला कृषि पदाधिकारी, लोहरदगा द्वारा बताया गया कि जिले में 13779 किसान ऐसे थे जिन्हें अब तक केसीसी ऋण नहीं मिल सका था। इनमें से कुल 13557 किसानों का केसीसी के लिए आवेदन सृजित कर बैंकों को भेजा गया जिसमें बैंकों द्वारा मात्र 1857 आवेदन ही स्वीकृत किया गया। यह भेजे गये आवेदन का मात्र 14 प्रतिशत ही है। उपायुक्त द्वारा बैंकों के द्वारा स्वीकृत आवेदनों की संख्या पर काफी नाराजगी व्यक्त की गई और जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक को उन बैंक प्रबंधकों की सूची तैयार कर कड़ी कार्रवाई का निदेश दिया गया जो केसीसी आवेदन को स्वीकृत कर किसानों को कृषि कार्यों के लिए ऋण उपलब्ध कराने में कोई रूचि नहीं दिखा रहे हैं। सभी बैंक प्रबंधकों को अपने-अपने बैंक शाखाओं में लंबित पड़े केसीसी के आवेदनों की जांच कर स्वीकृत करने का निदेश दिया गया। साथ ही, अगर किसी आवेदन को अस्वीकृत किया जाता है तो उसमें उचित कारण का उल्लेख किये जाने का निदेश दिया गया।

बैठक में उद्योग विभाग द्वारा प्रदान किये जानेवाले स्वरोजगार ऋण के लक्ष्य 76 के विरूद्ध मात्र 07 स्वीकृत व एक भुगतान की स्थिति पर रोष व्यक्त करते हुए उपायुक्त द्वारा बैंकों को लंबित आवेदनों को स्वीकृत कर ऋण का भुगतान किये जाने का निदेश दिया गया।

उपायुक्त द्वारा मत्स्य पालन के लिए केसीसी, नगर परिषद द्वारा प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के लिए भेजे गये आवेदन, डेयरी केसीसी, पीएम किसान लाभुकों को केसीसी,जेएसएलपीएस स्वयंसहायता समूहों के क्रेडिट लिंकेज से संबंधित आवेदनों को भी बैंको द्वारा स्वीकृत किये जाने का निदेश दिया गया।
इसके अतिरिक्त बैंकों को वृद्धावस्था पेंशन योजना, छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति राशि व साईकिल वितरण योजना समेत अन्य कार्यों के लिए केवाईसी का कार्य गंभीरता पूर्वक व ससमय पूर्ण कराने का निदेश दिया गया।

बैठक में उप विकास आयुक्त अखौरी शशांक सिन्हा, आरबीआइ एजीएम अलफ्रेड एक्का, एलडीएम एसके नाग, जिला कृषि पदाधिकारी शिव कुमार राम, जिला मत्स्य पदाधिकारी गीतांजलि कुमारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, जिला उद्योग महाप्रबंधक नीलिमा केरकेट्टा, जेएसएलपीएस कार्यक्रम प्रबंधक प्रकाश रंजन समेत विभिन्न बैंकों के प्रबंधक एवं समन्वयक आदि उपस्थित थे।