पलामू । एनएसएस (राष्ट्रीय सेवा योजना) ऐसी संस्था है, जो युवाओं को समाज से जोड़ती है. यदि व्यक्ति स्वयं अपने बारे में सोंचता है तो यह उसकी बहुत बड़ी भूल है. एनएसएस दिवस समाज के प्रति युवाओं को उसके कर्तव्य याद दिलाता है. उक्त बातें नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डॉ. रामलखन सिंह ने स्थानीय जीएलए कॉलेज में आयोजित एनएसएस (राष्ट्रीय सेवा योजना) दिवस पर आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के पुरस्कार वितरण समारोह के अवसर पर कही.

कुलपति ने कहा कि एनएसएस को कोर्स वर्ग से जोड़ दिया जाए, इसपर विचार चल रहा है. आनेवाले समय में यदि स्थितियां सामान्य रहीं तो अगले वर्ष 12 जनवरी को विस्तृत रुप से विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित कराई जाएंगी.

जीएलए कॉलेज के प्राचार्य आईजे खलखो ने कहा कि यदि विद्यार्थी अपने शिक्षण काल में समाज सेवा का भाव रखते हैं तो उसका सर्वागींण विकास संभव है. इस मौके पर एनएसएस के समन्वयक डा. विभेष चौबे ने कहा कि एनएसएस के स्वयंसेवकों में प्रतिभा की कमी नहीं है. कार्यक्रम का उद्देश्य स्वयंसेवको को समाज से जोड़ना है.

इस अवसर पर आयोजित क्विज प्रतियोगिता में संत जेवियर कॉलेज की लक्ष्मी राम एवं राहुल राम को प्रथम, जेएस कॉलेज के सुमीत पाठक व आलोक तिवारी को द्वितीय तथा वाईएसएनएम कॉलेज की प्रियंका कुमारी तथा शिवानी कुमारी को तृतीय पुरस्कार दिया गया.

स्लोगन प्रतियोगिता में संत जेवियर के गुलशन मिंज को प्रथम, एमके कॉलेज पांकी की निधि कुमारी को द्वितीय तथा जीएलए के रिषभ कुमार शुक्ला को तृतीय पुरस्कार दिया गया.

पेंटिंग प्रतियोगिता में बीएसएम भवनाथपुर की ज्योति को प्रथम, एकेएस, जपला की सरस्वती रंजन को द्वितीय तथा संत जेवियर की इन्द्रमणि कुमारी को तृतीय पुरस्कार दिया गया.

वहीं एकल नृत्य में कुमारेश बीएड की शीतल को प्रथम, संत जेवियर की नेहा रवि को द्वितीय तथा जेएस कॉलेज की चांदनी कुमारी को तृतीय पुरस्कार दिया गया. कार्यक्रम का संचालन एसपीडी कॉलेज के प्रो. कमलेश सिन्हा ने तथा धन्यवाद ज्ञापन प्रो. राजेश कुमार सिंह ने किया.