सेन्हा/लोहरदगा l सेन्हा प्रखंड मुख्यालय के समीप आदिवासी समुदाय के लोग चक्का जाम कर शिलागाइं में एकलव्य विद्यालय का शिलान्यास पर आपत्ति जताते हुए समर्थन कर सरकार से योजना खारिज करने की मांग करते हुए। आदिवासी समाज के लोग समर्थन दिया। कहा आदिवासी समाज के धरोहर में गलत तरीके से एकलव्य विद्यालय या अन्य प्रकार की योजना स्वकृत करना कदापि बर्दाशत नही किया जाएगा। जानकारी के अनुसार बता दें कि प्रदर्शन व चक्का जाम राजी पड़हा,राजी पड़हा प्रार्थना सभा,आदिवासी छात्र संघ,आदिवासी संयुक्त मोर्चा अखिल भारतीय स्वतंत्रता सेनानी टाना भगत संघ सेन्हा के संयुक्त तत्वधान में विरोध प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर जिला पड़हा सचिव चैतु मुंडा ने जानकारी देते हुए बताया कि रांची जिला के शिलागाईं स्थित शाहिद वीर बुधु भगत के स्मारक स्थल पर केंद्रीय योजना के तहत एकलव्य विद्यालय बनाने का शिलान्यास आदिवासी कल्याण राज्य मंत्री अर्जुन मुंडा,सांसद सुदर्शन भगत एवं विधायक बंधु तिर्की द्वारा लिया गया निर्णय के विरुद्ध सेन्हा प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्र से आदिवासी समाज विरोद प्रदर्शन करते हुए सेन्हा प्रखंड मुख्यालय के समीप चक्का जाम किया। इस मौके पर मुर्की पंचायत के पूर्व मुखिया रंथू उराँव ने कहा हम आदिवासियों को इस निर्णय से घोर आपत्ति है। साथ ही उन्होंने कहा आदिवासियों के धरोहर भूमि पर किसी प्रकार से छेड छाड़ बर्दाश्त नही किया जाएगा। प्रदर्शन कारियों द्वारा 20 मिनट तक चक्का जाम रखा गया और राज्य मंत्री,सांसद एवं विधायक के निर्णय को गलत बताते हुए प्रदर्शन कारियों ने जम कर उन नेताओं के विरुद्ध मुर्दाबाद का नारेबाजी किया। चक्का जाम के दौरान कृषि पदाधिकारी सह दण्डाधिकारी रघुनन्दन वैद्य के निर्देश पर ए एस आई रमेश कुमार तिवारी,अनुज कुमार तिवारी ने शस्त्र बल के सहयोग से सभी प्रदर्शन कारियों को गिरफ्तार कर अस्थाई जेल कैम्प राजकीय उत्क्रमित बुनियादी उच्च विद्यालय प्रांगण में रखा गया। जहां आदिवासी समाज के प्रदर्शन कारी लोग प्रखंड विकास पदाधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा। गिरफ्तारी में चैतु मुंडा,गंगा उराँव,रामतार उराँव,सुरेश उराँव,रंजीत उराँव,दशई उराँव,मोतीलाल उराँव,बिजला उराँव,बन्दे उराँव एतवा उराँव रामकिशुन भगत सहित 125 प्रदर्शन कारी शामिल थे। जिसकी पुलिस प्रशासन द्वारा गिरफ्तार कर जमानत पर छोड़ा गया।