पलामू । तीन कृषि कानून को रद्द करने की मांग को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर सोमवार को भारत बंद का आह्वान किया गया है. पलामू में किसान आंदोलन के समर्थन में भी लोग सड़क पर उतरेंगे. विभिन्न संगठनों ने इसके लिए पहले से ही तैयारी की है. रविवार की देर शाम जिला मुख्यालय मेदनीनगर में विभिन्न राजनीतिक दलों के द्वारा मशाल जुलूस निकाला गया और बंद को ऐतिहासिक बनाने की अपील की गई.

मशाल जुलूस में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, भाकपा माले, राष्ट्रीय जनता दल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस पार्टी के अलावा अन्य विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं ने भाग लिया. शहर के प्रमुख चौक चौराहों पर मशाल जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया गया. छह मुहान पर संयुक्त रूप से बंद के मद्देनजर समर्थन की अपील की गई.

इधर, झारखंड राज्य देहाती मजदूर यूनियन के बैनर तले किसान और मजदूर सोमवार को सड़क पर उतर कर केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध करते हुए किसानों के समर्थन में तीनों कृषि बिल रद्द करने की मांग करेंगे. मजदूर संगठन एटक से संबंध बिहारी मजदूर यूनियन की ओर से भारत बंद को सफल बनाने के लिए मजदूर- किसान जागरुकता रथ निकाला गया है, जिसके माध्यम से कार्यकर्ता अलग-अलग गांव में जाकर लोगों को किसान आंदोलन की सार्थकता को बताया और 27 सितंबर को भारत बंद का समर्थन करते हुए बंद में शामिल होने की अपील की गई.

यूनियन की ओर से चैनपुर के भड़गांवा, पिंडरा, पनेरीबांध, झारिवा, बंदुआ, बुढिबिर, गरदा, सलतुआ के अलावा बैरिया, रेड़मा , सादिक चौक, कचहरी परिसर, घासपट्टी और सटेशन रोड आदि जगहों पर आम सभा कर जन जागरूकता अभियान चलाया गया और लोगों से भारत बंद का समर्थन करने की अपील की गई.
सभा में मुख्य रूप से अखिल भारतीय किसान सभा के राज्य कार्यकारी अध्यक्ष सह भाकपा नेता केडी सिंह, माले नेता आरएन सिंह, गौतम कुमार, गीता कुमार, शत्रुधन कुमार शत्रु समेत अन्य लोग शामिल थें.