गिरिडीह । विद्या विकास समिति की और से रविवार को शहर के गिरिडीह सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में विभाग स्तरीय शिक्षक प्रशिक्षक कार्यशाला का आयोजन किया. विद्या मंदिर स्कूल में आयोजित कार्यशाला में जहां विकास समिति के प्रदेश सचिव अजय तिवारी, विभाग प्रमुख ओमप्रकाश सिन्हा, सचिव दीपक शर्मा, उपाध्यक्ष एसपी सिन्हा शामिल हुए. कार्यशाला की शुरुआत विद्या की अधिष्ठात्री मां शारदे की तस्वीर के समक्ष दीप जलाकर और पुष्प अर्पित कर की गयी. विभाग स्तरीय कार्यशाला में हजारीबाग विभाग के 13 प्राचार्य और 44 शिक्षकों ने हिस्सा लिया.

राष्ट्रीय शिक्षा नीति विषय पर आयोजित कार्यशाला में मुख्य वक्ता अजय तिवारी ने कहा, शिक्षा नीति 2020 भारत केन्द्रित शिक्षा है. प्रदेश सचिव ने शिक्षा नीति की तारीफ कर कहा कि वर्तमान में इसी शिक्षा नीति की जरुरत समूचा देश महसूस कर रहा था. क्योंकि बाल मनोविज्ञान को आधार मानकर यह तैयार किया गया. प्रदेश सचिव ने शिक्षा नीति के फॉर्मूले का महत्व बताते हुए कहा कि 5 प्लस 3 प्लस 3 प्लस 4 इन आयु को आधार बनाते हुए कक्षा का विभाजन किया गया. और विद्या भारती भी इसी फार्मूले के आधार पर शिक्षा नीति के निर्माण की पक्षधर थी. ऐसे में ये तय है कि इस फार्मूले के आधार पर अब बच्चों का तेजी से विकास होगा. क्योंकि इस नीति के कारण अब देश में रोजगारन्मुखी शिक्षा हर वर्ग के युवाओं को मिल सकेगी.

इस दौरान कार्यशाला के दूसरे सत्र को स्कूल के प्राचार्य संजीव सिन्हा, उदय शंकर उपाध्याय, प्राचार्य मुकेश शर्मा, डा. आरती वर्मा ने भी संबोधित किया. कार्यशाला में सुशील ओझा, राजेन्द्र लाल बरनवाल, शुभेन्दु समेत कई मौजूद थे.