लोहरदगा l भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष मनीर उरांव ने संयुक्त किसान मोर्चा के आवाहन पर भारत बंद को पूरी तरह से विफल बताया। साथ ही कहा कि लोहरदगा सहित झारखंड राज्य में भारत बंद के समर्थन में झारखंड राज्य के सत्ताधारी दल कांग्रेस एवं जेएमएम राजद एनसीपी सीपीआई सहित अन्य दल अपने सरकार की किसान एवं कृषि से संबंधित चुनाव पत्र में शामिल घोषणाओं को पूर्ति करने में विफल रही है। राज्य के किसान बेहाल हैं लगातार आपदा एवं मौसम की मार ऋण सुविधाएं से वंचित किसानों का सामना नहीं कर पाने के कारण वर्तमान झारखंड के सत्ताधारी इस भ्रमित करने वाले एजेंडे में शामिल हो गई है। परंतु झारखंड के किसान आज भी खेतों में है उन्हें पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में बनाई गई नई कृषि बिल किसानों के लिए हितकर है। उन्हें अच्छा बाजार, उचित मूल्य, निवेश एवं आय को दुगनी करने सहित अनेक प्रकार की खुबियां इस बिल में समाहित हैं।

परंतु झारखंड की सरकार में शामिल कांग्रेस जो सत्ता के सुख को भुला नहीं पा रही है और वह लगातार देश के विकास एवं कृषि किसान की उन्नति करने वाले बिल को भी गलत साबित करना चाहती है।जिसे पुनः किसी तरह सत्ता का अवसर प्राप्त हो सके माध्यम जो भी। चाहे उनके लिए पैसे नियमों में निरंतरता बनाए रखना चाहते हैं जिससे देश का विकास की गति रुकी रहे।
कांग्रेश हमेशा से भ्रष्टाचार एवं बिचौलियों को बढ़ावा देती आई है।
हास्यास्पद का विषय यह है कि झारखंड में सत्ताधारी लोग किसान की हितों की बात कर रहे हैं जो सत्ता में बैठने के बाद कृषि एवं किसानों से संबंधित सारी सुविधाएं अव्यवस्थित एवं कुप्रबंधन का भेंट चढ़ा दिया। किसान अपनी उपज को बेचने के लिए दर-दर की ठोकरें खाते रहे और जब किसान की फसल सरकार ले ली तो उन्हें उनकी राशि के लिए कई बार गुहार लगाने को मजबूर किया साथ ही किसानों से किए गए आधुनिक यंत्र मुहैया वाली बात भी घोषणा पत्र में ही सिमट कर रह गई। मत्स्य पालन की स्थिति भी राज्य में पूर्वर्ती सरकार की अपेक्षा पिछड़ रही है। भारत बंद बिचौलियों के समर्थकों का है जिसे जनता एक सिरे से नकार दी है।