पाकुड । जिले के हिरणपुर प्रखंड के बाबुपुर में बीते दो दिनों में लगातार मां एवं तीन वर्षीय मासूम बच्ची की मौत हो गई जबकि गांव में अन्य लोग बीमारी से आक्रांत है जिसका इलाज गांव के झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा किया जा रहा है इस खबर के बाद इलाके में हड़कंप मचा हुआ है.वहीं इसकी सूचना मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग टीम आनन-फानन में गांव पहुंचकर बीमार मरीजों का इलाज कर आवश्यक दवा दिया मिली जानकारी के अनुसार सोम सोरेन की पत्नी संजली सोरेन(30) को शुक्रवार रात को अचानक उल्टी ओर दस्त की वजह से उसकी हालत खराब होने लगी जिसके बाद उसे गांव में ही इलाज कराया गया लेकिन शनिवार सुबह होते होते उसकी मृत्यु हो गई मां के मृत्यु के दूसरे दिन रविवार सुबह तीन वर्षीय मोनिका सोरेन की भी मृत्यु हो गई इसे भी दस्त ओर उल्टी की शिकायत थी।बताया जा रहा है कि गांव के बाहा किस्कु( 25) का इलाज मोहनपुर स्थित एक निजी क्लिनिक में चल रहा है।जिसे 108 एम्बुलेंस से बेहतर इलाज के सोनाजोड़ी सदर अस्पताल पहुंचाया गया वहीं बहादुर हांसदा का इलाज अपने घर पर ही चल रहा है। जिसे गांव के झोलाछाप डॉक्टर स्लाइन चढ़ा रहे हैंउक्त दोनों इलाजरत मरीजों को भी उल्टी दस्त की ही शिकायत है उधर, ग्रामीण संभावित डायरिया का प्रकोप से भयभीत है।लगातर दो दिनों में मां-बच्ची के मौत एवं अन्य मरीजों की इलाजरत की सूचना पर लोग सकते में है।प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी चिकित्सा प्रभारी सुनील कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि सूचना मिलने के बाद गांव पहुंचकर मरीज बहादुर का इलाज कर दवा वितरण किया गया है साथ ही ग्रामीणों को खानपान, साफ-सफाई एवं अन्य पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी गई।
इस संबंध में सिविल सर्जन डॉ.रामदेव पासवान ने कहा कि मामले की सूचना मिली है। जिसके बाद स्वास्थ्य टीम गांव पहुंचकर मरीजों की जांच किया है। लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा के लिए हर प्रयास किया जाएगा।