लोहरदगा l भंडरा प्रखंड क्षेत्र के मसमानो गांव में एसटी बरवाटोली मसमानो के बैनर तले पतरा मैदान में आयोजित तीन दिवसीय फुटबॉल टूर्नामेंट सह रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम संपन्न हुआ। समापन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में सेन्हा के जिला परिषद सदस्य रामलखन प्रसाद, विशिष्ट अतिथि के रूप में आदिवासी जन परिषद के लोहरदगा जिला प्रभारी रंजीत लकड़ा, मिस्टर एशिया के रनरअप रवि गोप, गडरपो पंचायत की मुखिया सुप्रिया उरांव, मुखिया सुखदेव उरांव, महावीर साहू, रामदेव लोहरा, शिक्षक विनोद उरांव, सोनू कुमार शामिल हुए। कार्यक्रम को चार चांद लगाने के लिए छत्तीसगढ़ रायपुर की मशहूर कुँड़ुख़ गायिका गरिमा एक्का, आधुनिक नागपुरी के चहेते कलाकार छोटेलाल उरांव, कुँड़ुख़ गायिका संतोषी उरांव, गायक फूलदेव केरकेट्टा, मनोज महली शामिल हुए। अतिथियों के यहां पहुंचने पर स्वागत मंडली की बच्चियों द्वारा पारंपरिक रूप से ढोल, नगाड़ा, मांदर के साथ भव्य रूप से स्वागत किया गया। रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ बाबा कार्तिक उरांव के चित्र पर पुष्प अर्पित कर किया। वहीं टूर्नामेंट का फाइनल मैच झाल जमीरा व हैंडसम बॉयज के बीच खेला गया। जिसमें टॉस के सहारे झाल जमीरा की टीम ने हैंडसम बॉयज को हराकर टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम किया। वहीं तीसरे स्थान पर फाइटर इलेवन बी बॉयज की टीम रही। प्रथम पुरस्कार के रुप में दो बड़ा खस्सी, मेडल, शील्ड व जर्सी सेट, द्वितीय पुरस्कार के रुप में दो बड़ा खस्सी, मेडल, शील्ड व जर्सी सेट व तृतीय पुरस्कार के रुप में एक खस्सी, शील्ड व मेडल टीम के खिलाड़ियों को उपस्थित अतिथियों द्वारा दिया गया। वहीं बालक वर्ग 100 मी रेस, बालिका वर्ग 100 मी रेस, सुई धागा रेस, गणित प्रतियोगिता व बालक वर्ग 200 मी रेस के विजेता प्रतिभागियों को भी मेडल देकर सम्मानित किया गया। संगीत प्रेमियों व खिलाड़ियों का उत्साह वर्धन करते हुए रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम में पहुंचे कलाकारों ने एक से बढ़कर एक गीत की शानदार प्रस्तुति देकर खिलाड़ियों और लोगों का मन मोहे रखा। छत्तीसगढ़ रायपुर की मशहूर कुँड़ुख़ कलाकार गरिमा एक्का ने बारके जोड़ी रे ओसा पुटो पेसा गे… कुँड़ुख़ गीत से फुटबॉल खिलाड़ियों के साथ साथ संगीत प्रेमियों को खूब झूमाया। इनके अलावे अन्य कलाकारों के साथ सेल्फी लेने के लिए संगीत प्रेमियों का तांता लगा रहा। मौके पर राम लखन प्रसाद ने कहा कि आयोजन कमेटी ने बेहतरीन तरीके से फुटबॉल टूर्नामेंट और रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करवाया। इस प्रकार के आयोजन से एक दूसरे से जुड़ाव बनता है। फुटबॉल खेल के साथ छोटे-छोटे बच्चों की प्रतिभा को एक नया प्लेटफार्म देना सराहनीय पहल है। बच्चों को एक नया प्लेटफार्म मिलने से उनका हौसला और भी बढ़ जाता है। रंजीत लकड़ा ने कहा कि खेल से शारीरिक व मानसिक का विकास तो होता ही है, इसके अलावा नेतृत्व और संगठित होने का संकेत भी मिलता है। आज के समय में फुटबॉल टूर्नामेंट एक त्यौहार का रूप ले लिया है। खेल के साथ मनोरंजन का भी आनंद प्राप्त होता है। एक तनावयुक्त मानव के लिए मनोरंजन तनावमुक्त का अच्छा साधन है। टूर्नामेंट सह सांस्कृतिक कार्यक्रम का संचालन विजय यादव ने किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से उप मुखिया जगबंधन उरांव, रामविलास उरांव, शिक्षक बुधराम उरांव, लाल देवव्रत शाहदेव, लाल संदीप नाथ शाहदेव, सरोज उरांव, मुकेश उरांव सहित अन्य उपस्थित थे। सफल बनाने में आयोजन समिति के अध्यक्ष छोटू उरांव, प्रभु उरांव, सचिव बबलू उरांव, नीरज उरांव, कोषाध्यक्ष विष्णु टाना भगत, विजय यादव, कलेश्वर उरांव, संरक्षक विनोद उरांव, राजू उरांव, मुनेश बैठा, दीपक उरांव, केश्वर उरांव, रविन्द्र उरांव, जितेंद्र उरांव, एतवा उरांव सहित अन्य लोगों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।