लोहरदगा । झारखंड सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं का जिला जनसंपर्क कार्यालय, लोहरदगा की ओर से कला दलों के कलाकारों द्वारा गांव-गांव जा कर जानकारी दी जा रही है। इसी कड़ी में आज वनांचल कलादल के कलाकारों ने दलनायक दीप नारायण के नेतृत्व में सेन्हा पंचायत में नुक्कड़-नाटक का कार्यक्रम किया। कलाकारों ने इस मौके पर झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई योजना सोना-सोबरन, धोती-साड़ी योजना की जानकारी दी। कलाकारों ने बताया कि इस योजना के अंतर्गत 10-10 रुपये में राशन कार्डधारियों को धोती/लुंगी और साड़ी दी जा रही है। यह वस्त्र अपने संबंधित जनवितरण प्रणाली की दुकान पर मिलेगा। इस योजना का लाभ साल में दो बार लाभुक परिवार को दिया जाएगा। इस योजना का लाभ पाने के लिए कार्डधारी को अपना राशन कार्ड और अपना पहचान पत्र ( आधार कार्ड/मतदाता पहचान पत्र/ड्राइविंग लाइसेंस/मुखिया या वार्ड पार्षद द्वारा अनुसंसित पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य होगा)।

मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना

कलाकारों द्वारा इस योजना की जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना का लाभ एसटी,एससी,ओबीसी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग श्रेणी के युवाओं को स्वरोजगार हेतु दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त सखी मंडल, 5 लाख से कम आय वाले परिवार को यह लाभ मिल सकता है। इसके लिए झारखंड राज्य का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है। युवा किसी भी तरह की दुकान, मालवाहन,यात्री वाहन, रेस्तरां, आधुनिक खेती, लघु या कुटीर उद्योग के लिए यह ऋण प्राप्त कर सकते हैं। 50 हजार रुपये तक के लिए किसी भी तरह की गारंटी नहीं देनी होगी। वहीं अनुदानित दर पर 25 लाख रुपये तक का ऋण मिल सकता है। ऋण पर 40% या 5 लाख तक का अनुदान निर्धारित है। आवेदन के लिए फार्म जिला कल्याण कार्यालय से प्राप्त किया जा सकता है। भरे हुए फार्म को जिला कल्याण कार्यालय के अलावा झारखंड राज्य आदिवासी सहकारी विकास/अनुसूचित जाति सहकारिता विकास/पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास/अल्पसंख्यक वित्त एवं विकास निगम में भी जमा किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना
राज्य के सभी किसानों को बकरी/सूकर/मुर्गा-मुर्गी, बत्तख सहित दुधारू गाय खरीदने के लिए 100% तक अनुदान दिया जा रहा है। योजना के तहत पशु/पक्षी शेड निर्माण में सहायता तथा सस्ते दर पर पशु आहार भी मिलेगा। लाभुकों के चयन हेतु ग्राम सभा की जाएगी और जिला स्तर पर उपायुक्त की अध्यक्षता वाली समिति में लाभुक का चयन किया जाएगा।

पोषण

कलाकारों द्वारा पोषण के पांच सूत्रों की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी दी गयी। इसमें गर्भधारण से बच्चे की उम्र दो वर्ष पूरी हो जाने तक मां व बच्चे की उचित देखभाल की जानकारी, बच्चे को छह माह की उम्र पूरी होने के बाद पर्याप्त पौष्टिक आहार प्रारंभ करने, एनीमिया से बचाव हेतु आयरनयुक्त आहार, डायरिया से बचाव हेतु व्यक्तिगत साफ-सफाई और स्वच्छता एवं साफ-सफाई की जानकारी शामिल हैं।

कोविड-19 का दोनों टीका लेना जरूरी

कलाकारों ने नुक्कड़-नाटक के माध्यम से बताया कि कोरोना की तीसरी लहर से बचना है तो कोविड-19 का प्रतिरोधक टीका लेना बहुत ही जरूरी है। जिन लोगों ने अपना पहला डोज प्राप्त कर लिया है तो निर्धारित समयावधि पूरी होने के बाद दूसरा डोज अवश्य ले लें। यह बेहद अहम है। साथ ही अपने आसपास, दोस्तों-रिश्तेदारों को भी कोविड-19 का टीका लेने के लिए प्रेरित करें। इसके अतिरिक्त कोरोना से संबंधित कोई भी लक्षण दिखने पर अपना कोविड-19 जांच अवश्य करायें। हमेशा गर्म पानी का सेवन करें। अपने हाथों को नियमित रूप से साबुन/हैण्डवाॅश/सैनिटाइजर से साफ करें। सार्वजनिक जगहों पर हमेशा मास्क प्रयोग करें।