रांची । राजधानी रांची की बहुमंजिला इमारतें आज के दिनों में सुरक्षित नहीं हैं. बहुमंजिला इमारतें देखने में तो सुंदर प्रतीत होती है लेकिन यह इमारतें आत्महत्या व मर्डर स्पॉट के रूप में तब्दील होती जा रही है.

शहर के लोग बहुमंजिला इमारतें देखकर खुश तो होते हैं. लेकिन इन बहुमंजिला इमारतों ने कई परिवारों के सदस्यों को हमेशा के लिए छीन लिया है. बहुमंजिला इमारतें को देख कर लोग अपने स्तर से विकास की परिभाषा तो गढ़ते हैं लेकिन बहुमंजिला इमारतों से जिस तरह घरों के चिराग हमेशा के लिए बुझ जाते हैं उस घर के विकास की परिभाषा गढ़ने वाला कोई नहीं होता है. शहर में हरिओम टावर, एसजी एग्जॉटिका, मॉल डेकॉर जैसी कई बड़े-बड़े इमारतें बनी हैं लेकिन शायद ही उनकी सुरक्षा व्यवस्था की पुख्ता व्यवस्था नहीं की गई है.

दिखावे के हैं गार्ड, लोगों से नहीं होती ढंग से पूछताछ

शहर में जितनी भी बहुमंजिला इमारतें बन रही है या बनी हुई है. उन सभी इमारतों में गार्ड की तैनाती की गई है. बहुमंजिला इमारत के मुख्य द्वार पर हर गतिविधियों पर नजर रखने के लिए गार्ड की तैनाती की गई है. लेकिन गार्ड अपने काम पूरी ईमानदारी से नहीं करते दिख रहे हैं.

लालपुर स्थित एसजी एग्जॉटिका बिल्डिंग में कल जिस प्रकार से घटना घटी है. इसने सुरक्षा व्यवस्था के सारे दावों की पोल खोल कर रख दी है. वहां पर मौजूद गार्ड ने बताया कि गार्ड की जिम्मेवारी है कि कोई भी व्यक्ति यदि अंदर प्रवेश करता है तो उसकी एंट्री और एग्जिट टाइम को मेंशन किया जाता है. लेकिन इसके बावजूद अरविंद नाम के गार्ड से भूल हुई और संत ज़ेवियर कॉलेज की छात्रा विनीता से ज्यादा पूछताछ नहीं की गई.

ये वारदातें हुईं

30 सितंबर 2021– कल बरियातू थाना क्षेत्र की रहने वाली संत जेवियर कॉलेज की छात्रा विनीता कुमारी एस जी एग्जॉटिका 15 मंजिला इमारत से गिरकर मौत हो गई है. उसके भाई ने बताया कि उसकी बहन की हत्या कर उसे बिल्डिंग से फेंक दिया गया है.

वहीं पुलिस का कहना है कि छात्रा विनीता कुमारी ने आत्महत्या की है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद इस बात का पता चलेगा कि मौत का कारण क्या है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है.

कांके थाना क्षेत्र में भी हुई महिला की मौत

27 जुलाई 2021 को कांके थाना क्षेत्र स्थित चार तल्ला इमारत पर काम कर रही महिला पूनम की छत से गिरने की वजह से मौत हो गयी थी. पूनम के परिजनों ने वहां काम कर रहे मिस्त्री और ठेकेदारों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. उन्होंने बताया था कि दुष्कर्म कर उसे छत पर से फेंक दिया गया जिससे उसकी मौत हो गई.

हरिओम टावर में भी हो चुकी हैं तीन घटनाएं

2 दिसम्बर 2018 को सर्कुलर रोड स्थित हरिओम टावर के चौथे तल्ले से कूदकर एक 30 वर्षीय युवती ने आत्महत्या कर ली थी. युवती पंडरा की रहनेवाली थी.

5 अक्टूबर 2016 को हरिओम टावर से कूदकर एक छात्रा ने आत्महत्या की कोशिश की थी. मौके पर मौजूद लोगों ने उसे बचा लिया था.

27 दिसंबर 2015 को हरिओम टावर के चौथे तल्ले से ही गिरकर आरती पासवान नाम की एक युवती की मौत हो गई थी. वो लालपुर में किराए के कमरे में रहती थी.