रांची । अगर आप भी झारखंड में रहते है और कैंपस में बोरिंग के साथ वाटर कनेक्शन ले रखा है तो अलर्ट हो जाए. चूंकि नए नियम के तहत वाटर कनेक्शन लेने वालों का बोरिंग अवैध हो जाएगा. ऐसी स्थिति में आपको बोरिंग से पानी निकालना बंद कर देना होगा. इतना ही नहीं छापेमारी में पकड़े जाने पर कार्रवाई की जाएगी. वहीं एक्ट के तहत फाइन भी लगाया जाएगा. इतना ही नहीं बोरिंग रहते हुए वाटर कनेक्शन लिया तो वह भी अवैध माना जाएगा.
बताते चलें कि नगर विकास विभाग झारखंड सरकार ने झारखंड नगरपालिका जल कार्य, जल भार और जल संयोजन नियमावली 2020 तैयार की है. वहीं सभी नगर निकायों को आगे की कार्रवाई के लिए भेज दिया गया है. हालांकि रांची नगर निगम परिषद ने फिलहाल इस पर विचार करने के लिए समय मांगा है.

वाटर टैक्स का बढ़ेगा लोड
नगर निकायों में वाटर कनेक्शन के लिए भी नियमों में बदलाव किया गया है. वहीं 5 हजार लीटर पानी फ्री देने की भी तैयारी है. इस ज्यादा पानी के खर्च करने पर प्रति हजार लीटर 9 रुपये देना होगा. जिससे कि वाटर टैक्स का लोड लोगों की जेब पर बढ़ जाएगा.

नगर निगम क्षेत्र में 9 रुपये प्रति हजार लीटर, नगर परिषद में 7 और नगर पंचायत में यह 5 रुपये प्रति एक हजार लीटर होगा. वहीं 50 हजार लीटर से अधिक होने पर एक्स्ट्रा चार्ज भी जोड़ा जाएगा. वहीं कामर्शियल व अन्य के लिए शुरुआत से तय चार्ज के अलावा एक्स्ट्रा टैक्स देना होगा.

ये चार तरह का वाटर कनेक्शन होंगे
1000 स्क्वायर फीट तक – 7,000 रु
1001-3000 स्क्वायर फीट तक – 14,000 रु
3001-5000 स्क्वायर फीट तक – 28,000 रु
5000 स्क्वायर फीट से ऊपर – 42,000 रु

कॉमर्शियल कनेक्शन

बिल्ट अप एरिया (प्रति स्क्वायर फीट) – 26 रु

इंडस्ट्रियल कनेक्शन

बिल्ट अप एरिया (प्रति स्क्वायर फीट) – 26 रु

आर्गनाइजेशनल व गवर्नमेंट कनेक्शन

बिल्ट अप एरिया (प्रति स्क्वायर फीट) – 26 रु