हजारीबाग । भारतीय संविधान में विरोध हेतु काला झंडा दिखाने का अधिकार है ।परंतु केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा के पुत्र द्वारा विरोध करने वाले 8 किसानों एवं निर्दोषों को को गाड़ी से रौंदकर निर्मम हत्या करना रॉलेक्ट एक्ट को याद दिलाता है । रोलट कानून 18 मार्च 1919 को भारत के ब्रिटिश सरकार द्वारा भारत में उभर रहे राष्ट्रीय आंदोलन को कुचलने के उद्देश्य से निर्मित कानून था सर सिडनी रोलेट की अध्यक्षता मैं भारतीय क्रांतिकारियों को कुचलने के लिए बनाया था यह एक ऐसा कानून था रोलेट एक्ट के अंतर्गत ब्रिटिश सरकार को अधिकार दिया गया था कि वह किसी भी भारतीय लोग को बिना मुकदमा चलाए अदालत में और जेल में बंद कर सकते थे हत्या कर सकते थे। जिसे ब्रिटिश काला कानून भी कहा जाता है।
यह बाते कांग्रेस के एआईपीसी हजारीबाग लोकसभ अध्यक्ष ने कहां साथ ही साथ डॉ मेहता ने कहा की अब गुलाम भारत नहीं है किसानों की हृदय विदारक निर्मम हत्या केंद्र और यूपी सरकार को किसानों की हत्या का खामियाजा निश्चित तौर पर भुगतना पड़ेगा।
यह चिंगारी यूपी में सत्ता परिवर्तन का मुख्य कारण बनेगा।