खूंटी।  गुप्ता सूचना के आधार पर पुलिस ने बड़ी कार्यवाई करते हुए मंगलवार को दिनेश गोप के टीम सहयोगी मनीष गोप उर्फ महेश्वर गोप को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधिकक्षक आशुतोष शेखर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह जानकारी उपलब्ध कराई, प्राप्त जानकारी के अनुसार बता दें की सोमवार को पुलिस को गुप्त सूचना प्राप्त हुई थी की, पीएलएफआई प्रमुख दिनेश गोप के टीम के साथी सदस्य कुख्यात मनीष गोफ उर्फ महेश्वर गोप के साथ पीएलएफआई प्रमुख दिनेश गोप, राजेश गोप उर्फ तिलोश्वर गोप एवं टीम के अन्य सदस्यों द्वारा मतभेद एवं नाराजगी के कारण पिछले दिनों मारपीट की गई थी, जिसके उपरांत मनीष उर्फ महेश्वर गोप दस्ता छोड़कर भाग गया है।

उक्त सूचना के सत्यापन एवं आवश्यक कार्रवाई के क्रम में पुलिस टीम द्वारा गुमला पुलिस के सहयोग से संदिग्ध स्थलों पर छापामारी कर मनीष गोप उर्फ महेश्वर गोप, पिता नन्द गोप, ग्राम-बढ़का  तेतरटोली, थाना- जरियागर, जिला खूँटी को गुमला से गिरफ्तार किया गया। वहीं अपने स्वीकारोक्त बयान में गिरफ्तार पीएलएलएफआई दस्ता सदस्य मनीष गोप उर्फ महेश्वर गोप ने बताया है कि, पुलिस के साथ 17 दिसम्बर 2020 को बांदु में हुई मुठभेड में(जिसमे पीएलएफआई सदस्य सोनू सिंह नालंदा बिहार मारा गया था) के शामिल रहने के अलावा 18 मई 2021 को दिगरिपेराय टोली में हुई मुठभेड़, 26 जून 2021 को जतरमा में हुई मुठभेड़ में,16 जुलाई 2021 को बड़ाकेसल में हुई मुठभेड़ जिसमें पीएलएफआई कमाण्डर शनिचर सुरीन मारा गया था और 27 सितम्बर 2021 को बुडतुमरूंग जंगल में हुई मुठभेड़ में भी शामिल था। 
इन सभी मुठभेड़ में उसके द्वारा भी पुलिस पर फायरिंग की गई थी। फिलहाल गिरफ्तार अपराधी को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।