साहिबगंज ( उधवा ) । राधानगर थाना क्षेत्रों में अवैध लॉटरी का कारोबार चरम पर है । क्षेत्र में लंबे समय से अवैध लॉटरी का गोरखधंधा इन दिनों काफी फलफूल रहा है। अवैध लाटरी का कारोबार खुलने से लोगों की जेब पर डाका डालने की कवायद शुरू हो चुकी है। जानकारी के अनुसार उधवा,फुदकीपुर,कटहलबाड़ी,श्रीधर,बेगमगंज,राधानगर क्षेत्रों मे अवैध लॉटरी का कारोबार काफी फलफूल रहा है।दरअसल, इस धंधे से जुड़े कई लॉटरी माफिया लखपति बन गए है जबकि लॉटरी खरीदने वाले अपनी मेहनत की गढ़ी हुई कमाई को लॉटरी के चक्कर में पड़कर पल भर में गवां दिए है। लॉटरी माफिया बेखौफ होकर चौक चौराहे,दुकान व बाजार में खुलेआम लॉटरी की बिक्री करते हुए नजर आते हैं।लॉटरी पर अंकुश नहीं लगना इसमें स्थानीय प्रशासन की मिली भगत की बू नजर आती है।सियासी आशीर्वाद मिलते ही पुलिस ने भी बहती गंगा में हाथ धोने का काम शुरू कर दिया।इस अवैध कारोबार से सरकार को हर साल करोड़ों रुपये का चूना लग रहा है।लोग रातोंरात अमीर बनने के सब्जबाग देखकर इनका शिकार हो रहे हैं। यह सारा खेल पुलिस की नाक तले हो रहा है। सूत्र बताते है कि उधवा और कटहलबाड़ी इन दिनों अवैध लॉटरी का सेफ जोन बना है।सुबह से लेकर रात तक लॉटरी माफिया घूम घूमकर लॉटरी बेचते है। पुलिस के साथ अवैध लॉटरी के धंधे में जुटे लोगों की सेटिग होती है। खाकी इनसे अवैध लॉटरी का कारोबार करने के बदले में बाकायदा अपना महीना लेती है, इसलिए इन पर हाथ नहीं डाला जाता। नाम न छापने की शर्त पर कुछ लोगों ने बताया कि यह अवैध धंधा करने वाले लोग मालामाल बन गए है।कुछ लॉटरी माफिया इस धंधे से लाखों रुपए इनकम कर गाड़ी, जमीन सहित लाखों की प्रॉपर्टी खरीद लिए है। उधवा व कटहलबाड़ी के दो युवक इस धंधे से जुड़कर लखपति बन गए है।वहीं उन्होंने बताया कि इस अवैध कारोबार पर पुलिस की ओर से कोई कार्यवाही नहीं की जाती है।महज खानापूर्ति के लिए कभी कभी छापेमारी की जाती है।