लोहरदगा । जिला जनसम्पर्क कार्यालय, लोहरदगा की ओर से सूचीबद्ध विभिन्न कला दलों के कलाकारों द्वारा आज अलग-अलग प्रखंडों में जाकर सरकार दो योजनाओं मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना, सोना-सोबरन,धोती-साड़ी योजना पर विस्तृत जानकारी दी गई। इसके अलावा कलाकारों ने लोगों को कोविड के प्रतिरोध के लिए टीका के दोनों डोज लिए जाने के प्रति जागरूक किया।

कार्यक्रम के जरिये आम लोगों को जागरूक करने वाले कला जत्था में झारखंड का नवा मंजर कलादल के कलाकारों ने कैरो प्रखंड के हनहट पंचायत के हुदू गाँव में और कुड़ुख कला केंद्र के कलाकारों ने अनिता उराँव के नेतृत्व में किस्को प्रखंड के पाखर पंचायत के हुटाप गाँव में नुक्कड़-नाटक का कार्यक्रम किया।

सोना-सोबरन,धोती-साड़ी योजना

कलाकारों ने इस मौके पर झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई योजना सोना-सोबरन, धोती-साड़ी योजना की जानकारी दी। कलाकारों ने बताया कि इस योजना के अंतर्गत 10-10 रुपये में राशन कार्डधारियों को धोती/लुंगी और साड़ी दी जा रही है। यह वस्त्र अपने संबंधित जनवितरण प्रणाली की दुकान पर मिलेगा। इस योजना का लाभ साल में दो बार लाभुक परिवार को दिया जाएगा। इस योजना का लाभ पाने के लिए कार्डधारी को अपना राशन कार्ड और अपना पहचान पत्र (आधार कार्ड/मतदाता पहचान पत्र/ड्राइविंग लाइसेंस/मुखिया या वार्ड पार्षद द्वारा अनुसंसित पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य होगा)।

मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना

झारखंड सरकार ने मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना, 2020 की शुरुआत की। इस छात्रवृत्ति योजना को शुरू करने का उद्देश्य झारखंड के युवाओं को राज्य एवं देश के निर्माण में महती भूमिका निभाने का अवसर प्रदान करना है।
इस योजनांतर्गत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अल्पसंख्यक एवं अन्य पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा अनुसूचित जनजाति के 10 चयनित प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को प्रत्येक वर्ष उच्च स्तरीय शिक्षा, मास्टर डिग्री, एम. फिलहेतु छात्रवृत्ति की सहायता प्रदान की जाएगी। ये छात्र-छात्राएं मानव विज्ञान, कृषि, कला और संस्कृति, जलवायु परिवर्तन, अर्थशास्त्र, विधि, मीडिया एंड कम्युनिकेशन, पर्यटन सहित कुल 22 विषयों में 1 और 2 वर्ष के पाठ्यक्रम या शोध के क्षेत्र में उच्च शिक्षा (मास्टर डिग्री) ग्रहण कर सकेंगे। मास्टर या एम.फिल डिग्री के लिए अभ्यर्थी के लिए स्नातक की डिग्री में 55 प्रतिशत अंक या समकक्ष संबंधित विषय में 2 वर्ष का शिक्षण कार्य वांछनीय होगा। वैसे आवेदक जिनके पास अनुभव हो, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। आवेदक के माता-पिता की संपूर्ण पारिवारिक आय 12 लाख रुपये प्रतिवर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। एक ही माता-पिता या अभिभावक के एक से अधिक बच्चे योजना हेतु पात्र नहीं होंगे। इस योजना का लाभ किसी भी छात्र-छात्रा को किसी पाठयक्रम विशेष के लिए मात्र एक बार ही देय होगा।योजनांतर्गत भारत सरकार के मंत्री, राज्य सरकार के मंत्री के बच्चे शामिल नहीं किए जाएंगे।
राज्य सरकार चयनित छात्रों का शिक्षण शुल्क, पुस्तकें, आवश्यक उपकरण, वार्षिक अनुरक्षण भत्ता, वीजा शुल्क, हवाई यात्रा खर्च, स्वास्थ्य बीमा का प्रीमियम, यात्रा एवं स्थानीय खर्च का वहन करेगी।शिक्षण शुल्क का भुगतान संबंधित विद्यालय को एवं अन्य खर्च का भुगतान डीबीटी के माध्यम से छात्रों के बैंक अकाउंट में भेजा जाएगा। इस योजना के माध्यम से राज्य के अनुसूचित जाति के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को कैम्ब्रिज और ऑक्सफोर्ड जैसे प्रतिष्ठित विदेशी विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा ग्रहण करने का अवसर प्राप्त होगा। ऐसी छात्रवृत्ति योजना लागू करने वाला झारखंड देश का पहला राज्य है।

उल्लेखनीय है कि मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंड झारखंड के पहले आदिवासी थे, जिन्होंने इंग्लैंड में शिक्षा ग्रहण की थी। गोमके की कप्तानी में भारतीय हॉकी टीम ने ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। वह संविधान सभा के सदस्य रहे और उन्होंने झारखंड आंदोलन की नीव रखी।

मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना

कलाकारों द्वारा इस योजना की जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना का लाभ एसटी,एससी,ओबीसी, अल्पसंख्यक और दिव्यांग श्रेणी के युवाओं को स्वरोजगार हेतु दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त सखी मंडल, 5 लाख से कम आय वाले परिवार को यह लाभ मिल सकता है। इसके लिए झारखंड राज्य का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है। युवा किसी भी तरह की दुकान, मालवाहन,यात्री वाहन, रेस्तरां, आधुनिक खेती, लघु या कुटीर उद्योग के लिए यह ऋण प्राप्त कर सकते हैं। 50 हजार रुपये तक के लिए किसी भी तरह की गारंटी नहीं देनी होगी। वहीं अनुदानित दर पर 25 लाख रुपये तक का ऋण मिल सकता है। ऋण पर 40% या 5 लाख तक का अनुदान निर्धारित है। आवेदन के लिए फार्म जिला कल्याण कार्यालय से प्राप्त किया जा सकता है। भरे हुए फार्म को जिला कल्याण कार्यालय के अलावा झारखंड राज्य आदिवासी सहकारी विकास/अनुसूचित जाति सहकारिता विकास/पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास/अल्पसंख्यक वित्त एवं विकास निगम में भी जमा किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना

राज्य के सभी किसानों को बकरी/सूकर/मुर्गा-मुर्गी, बत्तख सहित दुधारू गाय खरीदने के लिए 100% तक अनुदान दिया जा रहा है। योजना के तहत पशु/पक्षी शेड निर्माण में सहायता तथा सस्ते दर पर पशु आहार भी मिलेगा। लाभुकों के चयन हेतु ग्राम सभा की जाएगी और जिला स्तर पर उपायुक्त की अध्यक्षता वाली समिति में लाभुक का चयन किया जाएगा।

कोविड-19 का दोनों टीका लेना जरूरी

कलाकारों ने नुक्कड़-नाटक के माध्यम से बताया कि कोरोना की तीसरी लहर से बचना है तो कोविड-19 का प्रतिरोधक टीका लेना बहुत ही जरूरी है। जिन लोगों ने अपना पहला डोज प्राप्त कर लिया है तो निर्धारित समयावधि पूरी होने के बाद दूसरा डोज अवश्य ले लें। यह बेहद अहम है। साथ ही अपने आसपास, दोस्तों-रिश्तेदारों को भी कोविड-19 का टीका लेने के लिए प्रेरित करें। इसके अतिरिक्त कोरोना से संबंधित कोई भी लक्षण दिखने पर अपना कोविड-19 जांच अवश्य करायें। हमेशा गर्म पानी का सेवन करें। अपने हाथों को नियमित रूप से साबुन/हैण्डवाॅश/सैनिटाइजर से साफ करें। सार्वजनिक जगहों पर हमेशा मास्क प्रयोग करें।