कीव पर कब्जे की तैयारी में रूस, गांव की ओर भागे यूक्रेन के लोग

झारखण्ड उजाला , ब्यूरो : रूस-यूक्रेन युद्ध का आज चौथा दिन है. हालात देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि ये युद्ध भयंकर होने वाला है. क्‍योंकि रूसी रक्षा मंत्रालय ने दावा कर दिया है कि अब यूक्रेन पर हर दिशा से हमला करेगा. रूस-यूक्रेन युद्ध की पल-पल की खबर यहां

कीव के लोग दहशत में

यूक्रेन में लोगों की जान पर खतरा मंडरा रहा है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो रूसी सेना अब कीव में कब्जे की तैयारी है. कीव में दहशत का माहौल है. कीव में खतरे से सायरन बजने से लोग डरे हुए हैं. खबरों की मानें तो यहां लोग जान बचाकर गांवों की ओर भाग रहे हैं.

खारकीव में रूसी सेना की एंट्री, सैन्य ठिकानों और एयरपोर्ट पर किया कब्जा

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रूसी सैनिक यूक्रेन के खारकीव में एंट्री कर चुके हैं. यही नहीं वहां रूस ने सैन्य ठिकानों और एयरपोर्ट पर अपना कब्जा जमा लिया है. बताया जा रहा है कि रूसी सेना अब यूक्रेन की राजधानी कीव पर भी कब्जे की तैयारी कर रही है.

रूसी कब्जे के बाद न्यूक्लियर रेडिएशन का खतरा

यूक्रेन में न्यूक्लियर रेडिएशन का खतरा बढ़ने की खबर आ रही है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यूक्रेन के अधिकारियों ने दावा किया है कि रूसी हमले के बाद चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट के पास रेडिएशन का खतरा 20 गुना बढ़ चुका है. इस इलाके में रूसी फोर्सेस के मूवमेंट से रेडियोएक्टिव धूल चारों तरफ फैल चुकी है.

रूसी हमले में यूक्रेन के 6 लोगों की मौत, 7 साल की बच्ची की भी जान गई

यूक्रेन पर रूस का हमला चौथे दिन भी जारी है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शेलिंग में सात साल की बच्ची समेत 6 लोगों की मौत हो गई है.

यूक्रेन को दी जा रही है मदद

रूस के खिलाफ जंग लड़ने के लिए विश्व के कई देशों ने यूक्रेन को आर्थिक मदद और हथियार भेजने का फैसला लिया है. अमेरिका, ब्रिटेन सहित 28 देशों ने इस बात पर सहमति व्‍यक्‍त जताई है कि यूक्रेन को और अत्याधुनिक हथियार भेजे जाएं.

रूसी सेना ने खारकीव में गैस पाइपलाइन उड़ायी

यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा कि रूस की सेना ने देश के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में एक गैस पाइपलाइन बम धमाके से उड़ा दी.

संरा ने यूक्रेन में कम से कम 240 आम नागरिकों की मौत

संयुक्त राष्ट्र ने यूक्रेन में चल रही लड़ाई में कम से कम 240 आम नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि की है जिनमें से कम से कम 64 लोगों की मौत गुरुवार को हुई. हालांकि, उसका मानना है कि ‘‘वास्तविक संख्या इससे कहीं अधिक है” क्योंकि मारे गए लोगों की कई खबरों की अभी पुष्टि नहीं हुई है.

रूस का पलटवार, कहा- हम भी जब्त करेंगे विदेशी संपत्ति

यूक्रेन पर हमले के बाद रूस पर कई देशों ने पाबंदियां लगाना शुरू कर दिया है जिसका जवाब रूस ने दिया है. राष्‍ट्रपति पुतिन ने कहा है कि वह भी विदेशियों और विदेशी कंपनियों की संपत्ति फ्रीज करके अपने लोगों और कंपनियों की संपत्ति की अंतरराष्ट्रीय जब्ती का जवाब देने का काम करेंगे.

एयर इंडिया की दूसरी उड़ान यूक्रेन से 250 भारतीयों को लेकर दिल्ली पहुंची

एयर इंडिया की दूसरी निकासी उड़ान यूक्रेन में फंसे 250 भारतीय नागरिकों को लेकर रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से शनिवार देर रात दिल्ली हवाईअड्डे पर पहुंची. नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यूक्रेन से लाए गए भारतीयों को गुलाब का फूल देकर हवाईअड्डे पर उनका स्वागत किया.

जो बाइडन ने कहा

एक इंटरव्यू में अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि रूस के खिलाफ युद्ध लड़ा जाना चाहिए. दूसरा विकल्प यह है कि जो भी देश अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन न करे, उसको कीमत चुकानी पड़े.

रूसी बमबारी में ग्रीस के 10 लोगों की मौत

यूक्रेन-रूस के बीच छिड़ी जंग में ग्रीस के नागरिक भी मारे गये हैं. बताया जा रहा है कि यूक्रेनी शहर मारियुपोल के पास रूसी बमबारी से ग्रीस के 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि 6 लोग घायल हुए. इस हमले के बाद ग्रीस ने रूस के राजदूत को तलब कर लिया है.

अमेरिकी एजेंसी का दावा

अमेरिका की एक निजी कंपनी ने सैटलाइट तस्वीरें शेयर की है. साथ ही यह दावा किया है कि यूक्रेन में काफी हद तक रूस का कब्जा हो गया है. रूस ने यूक्रेन के नोवाकाखोवका में नीपर नदी के पास स्थित जल विद्युत संयंत्र के पास अपनी सेना को एकत्रित किया है.

जंग को समाप्त करने के लिए नये अंतरराष्ट्रीय प्रयास शुरू

इस बीच, जंग को समाप्त करने के लिए नये अंतरराष्ट्रीय प्रयास भी शुरू हुए हैं, जिनमें रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर सीधे तौर पर प्रतिबंध भी शामिल है. ब्रिटेन ने कहा कि यूक्रेन को सैन्य मदद भेजने के लिए 26 देशों के बीच सहमति बनी है. रूसी सुरक्षा परिषद के उप प्रमुख दिमित्री मेदवेदेव ने कहा कि अमेरिका व अन्य देशों द्वारा लगाये गये प्रतिबंधों से रूस पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. सैन्य अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक कि पुतिन के लक्ष्य हासिल नहीं हो जाते. यूक्रेन के राष्ट्रपति के संघर्ष विराम की अपील के बीच रूस ने कहा कि उसका उद्देश्य केवल सैन्य ठिकानों को निशाना बनाना है. वहीं, भारत ने रूस की कड़े शब्दों में निंदा करने वाले प्रस्ताव पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हुए मतदान में हिस्सा नहीं लिया.

खिड़कियों से दूर रहने और सही जगह पनाह लेने की अपील

कीव में लोगों से खिड़कियों से दूर रहने और सही जगह पनाह लेने की अपील की है. वहीं, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने देश छोड़ने के अमेरिकी प्रस्ताव को ठुकराते हुए कहा कि युद्ध जारी है, ऐसे में उन्हें तोप रोधी गोला बारूद चाहिए न कि भाग निकलने की सलाह. उन्होंने देश को आश्वस्त किया है कि वह कीव में ही रुकेंगे. यह हमारी जमीन है, हमारा देश है, हमारे बच्चे हैं. हर हाल में हम उन सबका बचाव करेंगे. उन्होंने उस दावे को गलत बताया कि यूक्रेन की सेना हथियार डाल देगी.

हमले के तीसरे दिन के हालात

यूक्रेन पर हमले के तीसरे दिन शनिवार को रूसी सैनिकों ने राजधानी कीव में प्रवेश किया. इसके साथ ही राजधानी की सड़कों पर घमासान शुरू हो गया है. विस्फोटों व बंदूकों की आवाज से पूरा कीव दहल उठा है. सैन्य ठिकानों के साथ ही रूसी सैनिकों ने कुछ रिहायशी इलाकों को भी निशाना बनाया. पुल, स्कूल, अपार्टमेंट व अस्पतालों के व्यापक नुकसान को देखते हुए कीव के मेयर ने रात में शहर में कड़े कर्फ्यू का एलान किया है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.