साहिबगंज । देश, धर्म और समाज की रक्षा के लिए मां शक्ति की भाव – भक्ति – श्रद्धा से उपासना कर बल और शक्ति की प्राप्ति की जाती है। हिन्दू धर्म रक्षा मंच के महासचिव बजरंगी महतो ने नवरात्रि पर्व पर घटस्थापना के अवसर पर उपरोक्त विचार व्यक्त करते हुए कहा कि बिना अध्यात्म, शारीरिक बल, अर्थबल प्राप्त किए देश की रक्षा करना असंभव है। इसलिए चतुर्मास के दौरान अष्टभुजा भवानी मां दुर्गा की शक्ति के रूप में आराधना की जाती है। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती एवं राम रक्षा स्त्रोत आदि का पाठ करके शक्ति की सिद्धि की जाती है। महासचिव बजरंगी महतो ने कहा कि भारतीय संस्कृति में सभी महान सफलताएं और विजयश्री मां शक्ति की आराधना करके ही प्राप्त हुई है। भगवान राम, कृष्ण या जो सार्वभौम सम्राट थे सभी ने बड़े-बड़े साम्राज्य मां दुर्गा और लक्ष्मी की आराधना कर प्राप्त किए थे। नियम और संयम पूर्वक यदि नवरात्रि में सच्चे ह्दय से मां की भक्ति की जाए तो अभिष्ठ सिद्धि प्राप्त हो सकती है। बता दें कि साहिबगंज जिला में मां दुर्गा की स्थापना के साथ ही नवरात्रि पर्व का शुभारंभ हो गया है। अंचल में देर रात मां भवानी की भव्य मूर्तियों को ढोल, नगाड़ों, बाजों के साथ पंडाल स्थलों पर ले जाया गया। हिन्दू धर्म रक्षा मंच के बजरंगी महतो ने कहा कि समय, काल, परिस्थितियों की मांग है कि धर्म और आस्था के साथ सावधानी पूर्वक सभी त्यौहार मनाएं जाएं। ऐसा कोई कृत्य न किया जाए, जिसके कारण अव्यवस्था और अशांति फैले। उन्होने प्रशासन से सभी स्थानों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था, निरंतर विद्युत एवं शुद्ध जल सप्लाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि
नवरात्रि एवं विशेष त्यौहारों के दौरान श्रद्धालुओं को भीड़भाड़ के दौरान विशेष सावधानी, मुंह पर मास्क लगाना आदि सरकारी गाईडलाईन का पालन करना जरूरी है। बजरंगी महतो ने विभिन्न पूजा पंडालों के प्रतिनिधियों से मांग करते हुए कहा कि सेनेटाईज, मास्क आदि पूजा पंडालों में उचित मात्रा में उपलब्ध कराएं, ताकि कोरोना संक्रमण से बचाव हो सके।