लोहरदगा l शीला अग्रवाल सरस्वती विद्या मंदिर लोहरदगा में 2006 सत्र के पूर्वर्ती छात्र कुणाल बंसल ने कक्षा नवम तथा दशम के भैया/ बहनों का मार्गदर्शन किया । उन्होंने बीआई टी मेसरा से इंजीनियरिंग का शिक्षा ग्रहण कर कंप्यूटर इंजीनियर बने । वर्तमान में बंगलुरु में प्रतिष्ठित संस्थान में सीनियर मैनेजर के पद पर कार्यरत है । इन्होंने इस मौके पर कैरियर काउंसलिंग करते हुए मैट्रिक के बाद की विशेष प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी दी। सभी भैया/ बहनों ने इनकी बातों को ध्यान पूर्वक सुने और व्यक्तिगत रूप से अपने भविष्य के बारे में अनेक प्रश्न पूछे । कुणाल बंसल ने बताया कि विद्या मंदिर का संस्कार और अनुशासन जीवन के लिए अत्यंत लाभदायक है ।इन्हें मैं आज भी अपने व्यक्तिगत दिनचर्या में प्रयोग करता हूं । प्रातः स्मरण , एकात्मता मंत्र आदि दैनिक कार्य कलाप विद्यार्थियों को अपने लक्ष्य पर अडिग रखने में सहायक होते हैं । इन्हीं विशेषताओं के कारण अपना विद्या मंदिर आज भी समाज का उचित निर्माण कर रहा है ।आज इस विद्या मंदिर से पढ़ कर निकले अनेक छात्र/ छात्राएं उच्चतम पदों पर प्रतिष्ठित है और अपने इस विद्यालय का मान बढ़ा रहे हैं । इस मार्गदर्शन कार्यक्रम में परिचय का कार्य विद्यालय के आचार्य गोरख पांडे ने कराया। विद्यालय के प्रधानाचार्य रमेश कुमार उपाध्याय ने अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि कुणाल बंसल अपने विद्यालय के लिए गौरव है ।आपने भैया बहनों को जो दिशा निर्देश दिया , उससे वे अवश्य लाभान्वित होंगे । आप समय-समय पर विद्यालय आते रहेंगे । आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं । इस अवसर पर विद्यालय के सभी शिक्षक /शिक्षिकाएं और भैया/ बहन उपस्थित थे।