खूंटी। उपायुक्त, शशि रंजन की अध्यक्षता में मादक द्रव्य पदार्थों के नियंत्रण हेतु जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक आयोजित हुई। मौके पर उपायुक्त ने निर्देशित किया कि जिले के सभी थाना प्रभारियों, रेंजर सहित अंचल अधिकारियों द्वारा जिले में हो रही अफीम की अवैध खेती पर कड़ी नजर रखते हुए आवश्यक कार्रवाई की जाय।

उन्होंने कहा कि सम्बन्धित क्षेत्र के अंचल अधिकारी, थाना प्रभारी व रेंजर प्रत्येक सप्ताह संयुक्त रूप से जांच अभियान चलाएं एवं इसका साप्ताहिक प्रतिवेदन उपलब्ध कराएं।
उन्होंने कहा कि मानव जीवन के लिए विनाशकारी जहर की इस खेती के विरुद्ध अभियान चलाकर नष्ट करना अतिआवश्यक है। उन्होंने प्रखंड के सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि थाना प्रभारी, अंचल अधिकारी व फारेस्ट रेंजर द्वारा आपसी समन्वय के साथ अपने सम्बन्धित क्षेत्र में हो रही मादक द्रव्य पदार्थों को चिह्नित कर नष्ट करने का अभियान चलाया जाना चाहिए। साथ ही इस अवैध कार्यों में लगे लोगों के खिलाफ कानूनी प्रावधानों के तहत कार्रवाई सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है। आगे उन्होंने कहा कि प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी व थाना प्रभारी द्वारा रिपोर्ट उपलब्ध कराए जाय कि पिछले वर्ष कितने जांच अभियान चलाए गए व क्या कार्रवाई की गई है।

मौके पर उन्होंने कहा कि इसके लिए संबंधित क्षेत्र के मुखिया की जिम्मेदारी भी तय का जाय। साथ ही इसमें स्पष्ट किया जाय कि किस स्तर के किस अधिकारी की क्या भूमिका और जिम्मेदारी होगी। उन्होंने कहा कि मादक पदार्थों की रोकथाम में पुलिस की भी अहम भूमिका है। पुलिस बल के द्वारा रात्री गश्ती की जाय। साथ ही ब्लैक स्पॉट व अन्य सूचना प्राप्त होने पर रेड की जाय व सम्बन्धित प्रतिवेदन उपलब्ध कराएं। वन भूमि और सरकारी भूमि या कहीं अन्य स्थल पर इसे रोका जा सकता है। साथ ही उल्लघंनकर्ता पर नियमानुसार चालान/जुर्माना की कार्रवाई सुनिश्चित किया जाना चाहिए।