रांची । विश्व हिन्दू परिषद की नारी शाखा “दुर्गावाहिनी” एवं “मातृशक्ति” के स्थापना दिवस के शुभ अवसर पर रविवार को हनुमान खंड हेसल, राँची के अखाड़ा हनुमान मंदिर में भव्य शस्त्र पूजन कार्यक्रम संपन्न हुआ। शोभायात्रा में दो सौ से अधिक महिलाएँ सम्मिलित हुईं। वे हाथ में तलवार लिये लाल रंग के परिधान में सुसज्जित होकर चल रही थीं। कार्यक्रम का संचालन उषा सिंह, ममता , रुक्मिणी देवी, आरती सिंह, मंजू गुप्ता, सुमन तिवारी, आदि मातृशक्ति ने मिलकर किया। इस अवसर पर विश्व हिन्दू परिषद के क्षेत्र मंत्री वीरेन्द्र विमल ने माता बहनों को संबोधित करते हुये कहा, कि नारी अबला नहीं सबला है। वह दुर्गा स्वरूपा है। स्त्रियों को अपनी शक्ति पहचाननी चाहिए। बेटियों को सशक्त एवं संस्कार क्षम बनाना माताओं का दायित्त्व है। भारतभूमि से कन्या भ्रूण हत्या का कलंक मिटाने की जिम्मेदारी भी माता बहनों की है।
कार्यक्रम में मातृशक्ति की प्रदेश संयोजिका दीपारानी कुंज का भी उद्बोधन हुआ। शोभायात्रा हनुमान मंदिर, देवी मंडप, जोड़ा मंदिर होते हुये अखाड़ा मंदिर में वापस आई।