लोहरदगा । उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो की अध्यक्षता में स्वास्थ्य एवं समाज कल्याण विभाग की बैठक आयोजित हुई।
बैठक में सर्वप्रथम स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए प्रसव पूर्व जांच-1, प्रथम तिमाही में प्रसव पूर्व जांच, प्रसव पूर्व जांच-4, संस्थागत प्रसव, टीकाकरण, परिवार नियोजन, एमटीसी केंद्रों की स्थिति, शिशु मृत्यु दर, मातृ मृत्यु दर, टीबी, कुष्ठ रोगियों की स्थिति समेत अन्य बिंदुओं पर विस्तृत चर्चा की गई और आवश्यक निदेश दिये गये। भण्डरा और कुडू प्रखण्ड चिकित्सा पदाधिकारियों को प्रथम एएनसी की स्थिति में सुधार लाने और प्रखण्डों की उपलब्धि न्यूनतम सौ फीसदी प्राप्त करने का निदेश दिया गया।
भण्डरा और सेन्हा प्रखण्ड चिकित्सा पदाधिकारियों को प्रथम तिमाही में प्रसव पूर्व जांच करने, सीडीपीओ द्वारा नियमित रूप से फील्ड का भ्रमण करने, टूर प्रोग्राम की प्रति जिला समाज कल्याण पदाधिकारी को करने, नियमित रूप से सेशन साइट का आयोजन करने का निदेश दिया गया।
सेन्हा, किस्को और सदर प्रखण्ड चिकित्सा पदाधिकारियों को चतुर्थी एएनसी की स्थिति में सुधार लाने और उपलब्धि को सौ फीसदी प्राप्त करने का निदेश दिया गया। साथ ही सिविल सर्जन, लोहरदगा को निदेश दिया गया कि अगर कोई निजी अस्पताल क्लिनिकल एसटैब्लिसमेंट एक्ट का पालन नहीं कर रहे हैं तो उन पर आवश्यक कार्रवाई करें। साथ ही अगर कोई सहिया किसी महिला को निजी अस्पताल में प्रसव कराने के लिए प्रेरित करते हुए पायी जाती है तो उस पर कार्रवाई करें।
संस्थागत प्रसव के बिंदु पर उपायुक्त द्वारा सभी चिकित्सा पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि गर्भवती महिलाओं व उनके परिवार को संस्थागत प्रसव के विषय में प्रेरित किया जाय, उन्हें आवश्यक जानकारी दी जाय। जिन प्रखण्डों में संस्थागत प्रसव की स्थिति अगर किसी सहिया की वजह से खराब हो रही है तो उस पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए तत्काल सेवा से हटायें। एक सप्ताह के भीतर ऐसी की गई कार्रवाई का प्रतिवेदन दें।

उपायुक्त द्वारा लोहरदगा जिला को पूर्ण टीकाकरण कराने में राज्य में प्रथम स्थान मिलने पर सराहना की गई और इसे आगे भी बनाये रखने का निदेश दिया गया।

परिवार नियोजन

उपायुक्त द्वारा निदेश दिया गया कि परिवार नियोजन के बारे लोगों में ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फैलायी जाय। प्रचार-प्रसार किया जाय। परिवार नियोजन के आसान तरीकों के बारे बताया जाय। साथ ही परिवार नियोजन के लिए पे्ररित किया जाय। जिन समुदायों में परिवार नियोजन को लेकर किसी प्रकार की भ्रांति है उसे दूर किया जाय। तेजस्विनी परियोजना से जुड़े युवक-युवतियों द्वारा भी इसे प्रचारित किया जाय।
उपायुक्त द्वारा एमटीसी केंद्रों में कुपोषित बच्चों को एडमिट किये जाने और साथ ही ऐसे बच्चों के माता-पिता को प्रेरित करने का भी निदेश दिया गया।
समीक्षा के क्रम में मातृ मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर में भी कमी लाये जाने का निदेश दिया गया।

कोविड टीकाकरण के लिए चलेगा विशेष अभियान

उपायुक्त द्वारा निदेश दिया गया कि जिले में कोविड वैक्सीनेशन में दूसरा डोज में जिले की स्थिति खराब है। इसके लिए दुर्गा पूजा के बाद सभी प्रखण्डों में वैक्सीनेशन के लिए विशेष अभियान चलाया जायेगा। इसमें जो लोग अपना दूसरा डोज अभी तक प्राप्त नहीं किये हैं उन पर विशेष रूप से फोकस किया जायेगा। अभियान में दोनों तरह के डोज दिये जायेंगे। अभियान में प्रखण्ड के वरीय पदाधिकारी भी अभियान का निरीक्षण करेंगे।

समाज कल्याण विभाग

उपायुक्त द्वारा समाज कल्याण विभाग की बैठक में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में लंबित आवेदनों का निष्पादन किये जाने का निदेश महिला पर्यवेक्षिकाओं को दिया गया। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना 2021-22 में लंबित आवेदनों का निष्पादन किये जाने का निदेश दिया गया। एमटीसी केंद्रों में अतिकुपोषित बच्चों की भर्ती कर उनके पोषण में सुधार लाने और एमटीसी केंद्रों के रिक्त बेड को भरे जाने का निदेश दिया गया।
जेएसएलपीएस को पूरक पोषाहार कार्यक्रम अंतर्गत टेक होम राशन समय पर बच्चों को दिये जाने का निदेश दिया गया। जिन सेविका और सहायिका को कोविड टीका का दोनों डोज नहीं मिला है उन्हें दोनों डोज देकर टीकाकरण का चक्र पूरा करने का निदेश दिया गया। सेविका के चार और सहायिका के रिक्त 01 पद में नियुक्ति प्रक्रिया पूर्ण करने का निदेश दिया गया।

बैठक में उप विकास आयुक्त अखौरी शशांक सिन्हा, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी मनीषा तिर्की, सदर अस्पताल उपाधीक्षक डाॅ शंभूनाथ चौधरी,बाल संरक्षण पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार, डीपीएम, श्रेया सिंह, सभी प्रखण्ड चिकित्सा पदाधिकारी, सभी महिला पर्यवेक्षिका व अन्य उपस्थित थे।