लोहरदगा । अनुमण्डल पदाधिकारी अरविंद कुमार लाल की अध्यक्षता में आज दिनांक 12.10.2021 को वैश्विक महामारी कोरोना वायरस, कोविड-19 के मद्देनजर सरकार के दिशा-निर्देश के आलोक में “ईद मिलादुन नबी” त्यौहार मनाने हेतु कोविड-19 से बचाव एवं रोकथाम एवं विधि-व्यवस्था संधारण हेतु विचार-विमर्श के लिए बैठक आयोजित की गयी।
सर्वप्रथम बैठक में उपस्थित लोहरदगा अंजुमन इस्लामिया के सचिव एवं अन्य सदस्यों के स्वागत के साथ बैठक की कार्यवाही प्रारम्भ की गई।

अनुमण्डल पदाधिकारी, लोहरदगा द्वारा उपस्थित अंजुमन ईस्लामिया के सचिव एवं अन्य सदस्यों को विगत वर्ष के कार्यवाही के आलोक में जानकारी दी गई तथा विगत वर्ष की भांति ही इस वर्ष भी दिनांक 19.10.2021 को ईद-मिलादुन-नबी के अवसर पर अपने-अपने मुहल्ला में निकाले जाने वाले जुलूस में कम से कम लोग (अधिकतम 40 लोग ही) दूरी बनाते हुए मास्क का उपयोग करते हुए शामिल हों ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सके। साथ ही जुलूस का समय कम से कम समय में दिन के 9 बजे से 12 बजे के बीच समाप्त किया जाय। इस विषम परिस्थिति में धार्मिक परम्पराओं का निर्वाह कम से कम समय में किया जाय तथा कहीं भी ज्यादा भीड़-भाड़ नहीं लगायें। अंजुमन इस्लामिया द्वारा सहर्ष स्वीकार किया गया कि इस वर्ष भी जुलूस मुख्य सड़क पर नहीं आयेगा तथा कम संख्या में ही लोग अपने-अपने मुहल्ले में ही जुलूस निकालेंगे।

बैठक में अंजुमन इस्लामिया के पदाधिकारियों द्वारा बताया गया कि संध्या 7:00 बजे से अपने-अपने समीप के मस्जिद में नामाजी एकत्रित होंगे तथा तकरीर कार्यक्रम का आयोजन करेंगे जो मस्जिद के अन्दर ही होगा। उक्त फातिहा एवं तकरीर का कार्यक्रम कुछ ही मस्जिदों में यथा : जामा मस्जिद, कुरैशी मुहल्ला मस्जिद, इस्लाम नगर मस्जिद, खादगढ़ा मस्जिद एवं पावरगंज मस्जिद (बड़ा पोस्ट ऑफिस के पीछे) आयोजित किया जाता है, जिसपर अनुमण्डल पदाधिकारी द्वारा सहमति दी गयी कि सभी धार्मिक कार्यक्रम पूर्व वर्ष की भांति ही आयोजित किये जाय, परंतु कोविड-19 को देखते हुए दिशा-निर्देशों का अनुपालन भी किया जाय। अनुमंडल पदाधिकारी द्वारा अंजुमन इस्लामिया के पदाधिकारियों से आग्रह किया गया कि किसी प्रकार के अफवाह में ध्यान नहीं दें तथा अफवाह फैलने पर तत्काल उसका खण्डन करें यदि किसी प्रकार की बात हो तो जिले के अनुमंडल पदाधिकारी / अन्य पदाधिकारियों के संज्ञान में लाया जाय। साथ ही अपनी परिपक्वता दिखाते हुए दुर्गा पूजा के कार्यक्रम में भी आप लोग सहयोग प्रदान करें ताकि शांतिपूर्ण एवं सौहाद्रपूर्ण वातावरण कायम रहे।