पाकुड़ ( हिरणपुर ) | दुर्गा सप्तमी के पावन अवसर पर मंगलवार को सभी देवालयों में पारम्परिक रूप से श्रद्धालुओं द्वारा माँ की बारी लाई गई व अष्ट कलश स्थापित कर विधिवत पूजा अर्चना की गई। पूजा को लेकर सभी पूजा मंडपो में श्रद्धालुओं की काफी उपस्थिति देखी गई ।डांगापाड़ा स्थित बंगाली टोला दुर्गा मंदिर से पुजारी पंडित कानन मुखर्जी के उपस्थिति में दर्जनों की संख्या में महिला -पुरुष श्रद्धालुओ द्वारा माँ की आगमन को लेकर निकट के नदी घाट में जाकर केले के पेड़ लिए मंत्रोच्चारण के साथ माँ को आह्वान किया गया। इसके बाद ढाक -ढोल के साथ उल्लासपूर्वक कलश के साथ बारी को मंदिर लाया गया। जहाँ श्रद्धालु महिलाओं द्वारा हर्षोल्लास के साथ माँ की स्वागत किया गया। इसके बाद अष्ट कलश को स्नान कराकर पुजारी द्वारा परम्परागत रूप से बंगाली नियमानुसार पूजा अर्चना की गई। इसके बाद पुजारी ने पूजा के साथ -साथ पुष्पांजलि दी गई। पुजारी ने बताया कि सप्तमी से नव पत्रिका प्रवेश हो जाती है। जहाँ विधिवत माँ की आगमन होती है। उधर हिरणपुर बाजार स्थित मोयरा मोदक दुर्गा मंदिर , शील मंदिर , सेन दुर्गा मंदिर सहित देवपुर , तोड़ाई , गोपालपुर , वैष्णवी दुर्गा मंदिर में भी सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। जहाँ पुजारी द्वारा पूजा अर्चना किया गया। इस मौके पर पूजा कमिटी के आनन्द भंडारी , सुधीर इंदी , मधुसूदन गोराई , कमल दत्ता आदि उपस्थित थे।