साहिबगंज ( उधवा )। उधवा प्रखंड क्षेत्र में ईद मिलादुन्नबी की तैयारी पूरे जोर शोर से चल रहा है। जानकारी के अनुसार प्रखंड क्षेत्र में ईद मिलादुन्नबी का पर्व 19 अक्टूबर को हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। मुस्लिम समाज ने तैयारी शुरू कर दिया है। मुस्लिम क्षेत्रों में लोगों ने घरों की साफ सफाई के बाद सजाना शुरू कर दिया है। मस्जिद,मदरसा व घरों पर इस्लामी झंडे लगना शुरू हो गया है।वहीं हज़रत मुहम्मद साहब की याद में जुड़े प्रतीकात्मक सामान की खरीदारी कर रहे हैं।घरों की साफ सफाई के साथ रंग बिरंगी बिजली की झालरों व बल्ब से सजाना शुरू कर दिया गया है।कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष ईद मिलादुन्नबी का जुलूस नहीं निकलेगा।कोरोना महामारी से बचाव व सुरक्षा को लेकर सरकार ने एक जगह भीड़ जमा न हो इसके लिए सभी जुलूस आदि पर रोक लगा दिया गया है।इसलिए इस बार ईद मिलादुन्नबी का जुलूस नहीं निकलेगा। इसलिए मुस्लिम समुदायों ने ईद मिलादुन्नबी को एहतराम व अदब के साथ घरों में मनाने का निर्णय लिया है। इंगलिश बाबूटोला मस्जिद में शुक्रवार को मौलाना तबरेज आलम ने कहा कि पैगंबर ए आजम हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम पूरी दुनिया के लिए आइडियल है।सारी मखलूक अल्लाह की रजा चाहती है। उन्होंने कहा कि अल्लाह की मोहब्बत के बगैर कोई मुसलमान नहीं हो सकता, क्योंकि आपकी मोहब्बत ईमान की शर्त है।जामा मस्जिद के मौलाना आरीफ इक़बाल ने कहा कि पैगंबर ए आजम दुनिया के लिए रहमत ,नूर आला नूर है।कयामत के दिन आप ही सबसे पहले उम्मत की शफाअत फरमाएंगे।