पाकुड़ ( हिरणपुर ) । विजयादशमी के अवसर पर बंगाली समुदाय के महिलाओं द्वारा हर्षोल्लास के साथ सिंदूर खेला किया। जहाँ महिलाओं ने एक दूसरे के मांग में सिंदूर भरकर पति की दीर्घायु की कामना किया। सिंदूर खेला परम्परागत रूप से वर्षो से अनवरत जारी है। जहाँ माँ दुर्गा की बारी विसर्जन के बाद महिलाओं द्वारा मंदिर प्रांगण में एक दुसरो के मांग में सिंदूर भरती है व खुशी जाहिर करती है। पुजारी कानन मुखर्जी ने बताया कि यह परंपरा वर्षो से यथावत चल रहा है । देवी माँ जब मायके से विदा होकर ससुराल लौटती है , उस वक्त उन्हें सिंदूर ,आलता आदि देकर विदाई दी जाती है। इस वक्त महिलाएं देवी माँ से पति की दीर्घायु की कामना करती है। इसी को लेकर परम्परागत रूप से सिंदूर खेला होते आ रहा है। हिरणपुर स्थित सेन दुर्गा मंदिर , शील दुर्गा , मोयरा मोदक मंदिर व डांगापाड़ा स्थित दुर्गा मंदिर में हर्षोल्लास के साथ पर्व को मनाया गया।