पतरातु । महानवमी और विजयदशमी के दिन जिस तरह से लोगों का रुझान पतरातू डैम परिक्षेत्र घूमने में दिखा और जिस प्रकार लोगों का जमावड़ा इन 2 दिनों में वहाँ रहा उस से विस्थापित नाविक संघ के सदस्य काफी खुश नजर आए। उन्हें यह बोलने में बहुत खुशी मिली की त्योहारों के इन दिनों में हमारी कमाई अच्छी होती है। वहीं विस्थापित नाविक संघ के अध्यक्ष जियाउल अंसारी ने स्पष्ट कहा कि काश हर दिन त्योहारों का दिन होता तो हमारे भी अच्छे दिन होते। नवमी और दशमी के दिन सैलानियों की भीड़ साफ देखी जा सकती थी। हजारों की संख्या में लोग आए और नौका विहार का भरपूर आनंद उठाया। इसमें पारंपरिक नाव के साथ विस्थापित नाविक संघ के द्वारा खरीदा गया मोटर बोट लोगों को बेहद पसंद आया। लोगों की लंबी कतारें अपनी बारी आने के इंतजार में देखी गई। विस्थापित नाविक संघ के सचिव प्रयाग कुमार ने भी अपनी खुशी जाहिर की और कहा इस तरह से लोगों के आने से हमें काफी फायदा होता है। वहीं विस्थापित नाविक संघ के अध्यक्ष जियाउल अंसारी के चेहरे पर भी खुशी साफ देखते हुए बनी और उन्होंने कहा कि काश हर दिन त्यौहार वाला दिन होता तो हम अपने परिवार का भरण पोषण बड़ी आसानी से करते। उन्होंने यह भी कहा कि विस्थापित नाविक संघ के सदस्य आपसी सहयोग राशि से जो मोटर बोट खरीदे हैं उसमें लोगों का रुझान काफी है। लोग उस में बैठने को बेताब नजर आ रहे हैं। विस्थापित नाविक संघ के मोटर बोट के अलावे पारंपरिक नाव को भी इस कदर सजाया गया है कि लोग अनायास ही नाव में चढ़कर डैम का भ्रमण करते हैं। सैलानियों के कदम खुद-ब-खुद नावों की ओर खींची चली जाती है। बहुत से सैलानियों का कहना है कि यहाँ आकर हमें मिनी कश्मीर की फीलिंग आती है। बच्चों में भी काफी उत्साह देखने को मिला। नाव के मालिकों ने अपनी नाव को बिल्कुल दुल्हन की तरह सजा कर कश्मीर की याद दिला दी है लोगों को।