लोहरदगा । आजादी का अमृत महोत्सव” अंतर्गत जिला प्रशासन और डालसा, लोहरदगा की ओर से आज पेशरार प्रखण्ड-सह-अंचल कार्यालय में विधिक सशक्तिकरण कैंप-सह-विकास मेला का आयोजन किया गया। इस शिविर का उद्घाटन मुख्य अतिथि के रूप में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश-सह-अध्यक्ष, डालसा, लोहरदगा, उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो, उप विकास आयुक्त अखौरी शशांक सिन्हा, डालसा सचिव आरती माला समेत अन्य अतिथियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया।

उद्घाटन उपरांत अपने संबोधन में मुख्य अतिथि के रूप में जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार लोहरदगा राजेनद्र बहादुर पाल ने कहा कि इस शिविर का उदेश्य केन्द्र एवं राज्य सरकार के योजनाओं की जानकारी आप तक पहुचानी है ताकि योजनाओ का लाभ आप ले सकें। किसी योजना का लाभ आपको नहीं मिल रहा है तो आप हमारे पीएलवी एवं अधिवक्ता से सम्पर्क कर फार्म भरवा सकते है। जब तक आपको लाभ न मिले आप के साथ हम है। जिले में डायन की समस्या विभिन्न क्षेत्रों में है। कई बार बीमारी का सही इलाज नहीं होने से अन्य पर डायन का आरोप लगाया जाता है। डायन कहकर उसे जान से भी मार दिया जाता है जिसके कारण मृत व्यक्ति के परिवार तथा मारने वाले का परिवार भी बर्बाद हो जाता है। क्योकि मरने वाला के साथ साथ मारने वाला भी जेल जाकर परेशान हो जाता है इस प्रकार दोनो परिवार तबाही में पहुच जाते है। कोविड-19 से मृत माता पिता के अनाथ बच्चों को पुनर्वास एवं रक्षा के लिए बच्चों के सुरक्षात्मक कानून है। इसके लिए तुरंत सम्पर्क करें। जिला न्यायाधीश ने कहा कि कानून में संशोधन किया गया है। जिसमे एक वर्ष की जगह 2 से 5 साल तक की सजा प्रावधान किया गया है। नशीले पदार्थ के व्यपार में लोभ से ना पड़े। एक दो लाख कमाई के लोभ में जिवन को बर्बाद के रास्ते अपराध के ओर ना बढे। सरकार की योजनाओं का लाभ ले, अपना और अपने बच्चों के भविष्य उज्जवल करें।

उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो ने कहा कि यह एक रिमोट एरिया है। दूरस्त क्षेत्र है और दूरस्त क्षेत्र होने के कारण यहां के लोग ना हमसे मिल पाते है और ना कोई लाभ ले पाते है। आजादी के 75 साल हो गए। अनेक तरह के कार्यक्रम हमलोग कर रहे है सरकारी योजना चलाई जा रही है लेकिन वे ही जानकारी नहीं रखे तो विकास कैसे होगा। इसलिए सबसे जरूरी है जो भी सरकारी योजना है उसका सभी लोगो को होनी है। और तब ही उसका लाभ ले पायेगें। कभी कभी तो जानकारी के अभाव में जो लाभ आपको मिलनी चाहिए वो नहीं मिल पाता है। कभी आपके ओर से गलती हो जाती है, कभी हमलोग ध्यान नही दे पाते है, । इस खाई को मिटाना है। जो भी सरकारी योजनाए है उसका जानकारी रखना है और लाभ लेना आपका अधिकार है। अभी हमारे यहां पूरे देश में मनरेगा योजना चल रही है और मनरेगा योजना के तहत सभी श्रमिकों को काम मिलना है। योजना निर्मित होना है। योजना गांव स्तर से चयन होना है और गांव स्तर को मिलना है। हमलोग कोविड में देखे , किस तरह से लोग बाहर कमाने गए थे। बाहर क्यों जाना पड़ता है क्योकि यहा काम नहीं मिलता है तब लोग मजबूर होकर बाहर जाते है। अब हमलोग प्रयास कर रहे है यहां के लोगो को यही पर काम मिले। एक श्रमिक को एक सौ दिन काम मिलना उसका अधिकार है। ये आपलोग जान लिजिए, और आप हमारे मनरेगा के रोजगार सेवक, पचायंत सचिव या प्रखण्ड स्तर के पदाधिकारियों से कहकर के आप काम पा सकते है। यह बहुत ही बड़ा अधिकार है। उसी तरह सरकार ने यह निर्णय लिया है कि सभी का आवास हो ।अभी प्रधानमंत्री आवास योजनाचलाई जा रही है। उसमें चयन करके निर्धनतम लोगों को जिनके पास आवास नहीं हैं या बहुत ही कच्चा मकान हो यह काम हमलोग कर रहे है। हमारे राज्य के सूबे के मंत्री ने ग्रामिणों को ध्यान में रखकर के मुख्यमंत्री पशुधन योजना चालू किया है। इसके तहत सभी लोग जो पशुपालन करते है। मुर्गी पालन, बतख पालन, सुअर पालन, बकरी पालन गाय पालन करना। हम जानते है हमारे ग्रामीण क्षेत्रों के लोग बकरी पालन अच्छी तरह से करते है। और यही उनका सम्पति होता है। मुर्गी पालन करते है। खेती करते है। अब आपलोगो को आगे बढने के लिए व्यवसायिक रूप अपनाना होगा। ज्यादा बकरी पालिए । तो उसको बाजार में बेचिए ये आपलोगो का जरूरत में काम आता है। एक बकरी-खस्सी का दाम पांच हजार से कम नहीं होता हैं। यही जिविका का साधन है इसको हमलोग ठीक से करेंगे। कृषि में बहुत से योजनाए है। सिचाई की योजना है, कुआं बनना है उसका लाभ आपको आगे बढकर लेना चाहिए। जो किसान के पास पूंजी नहीं है। केसीसी के तहत लोन ले सकते है। केसीसी एक ऐसी ऋण है जो कम ब्याज में आपके मिलता है। किसान भाइयों से अनुरोध करना चाहेंगे कि अब व्यवसायिक बनना है। केवल धान की खेती करके छोड नहीं देना है। अब ऐसा फसल का खेती करना है जिसमें आपको पैसा मिले। जैसा की आप सरसों लगा सकते है, अरहर लगा सकते है। और भी ऐसा फसल लगा सकते है जिसकों बाजार में बेचकर आपकों पैसा मिल सकता है। उपायुक्त द्वारा बताया गया कि वु़द्धा पेंशन का लाभ ले सकते है अगर नही मिल रहा है तो पंचायत स्तर के कर्मियों को एप्लीकेशन दे सकते है। आपको मिलेगा,। धोती-साड़ी योजना में प्रत्येक कार्डधारी को अच्छी साडी धोती दी का रही है। ई श्रम में निबंधन होने पर, जो व्यक्ति का मृत्यु बाहर हो जाती है उसके परिवार वाले को अनुदान मिल सकता है अगर रजिस्टर हुआ होगा । पारिवारिक लाभ योजना, छात्रवृति योजना, सांप काटने या बिजली गिरने पर आपको सरकारी प्रावधान में लाभ मिलेगा।
उपायुक्त द्वारा बताया गया कि, प्रखण्डों मे कोई भी भुखा ना रहे। कोई भी आदमी खाने के बिना नहीं मरे। आपूर्ति पदाधिकारी, प्रखण्ड पदाधिकारी को आदेश दिया गया कि कोई भी लाचार व्यक्ति भूखा ना रहे। किसी भी तरह से उसको खाना उपलब्ध कराना है। चुंकि यह जंगल क्षेत्र है। इसमें बहुत पहले से वनवासी, आदिवासी , पिछडी जाति, अनुसुचित जनजाति के लोग जंगलो को साफ करके खेती करते आ रहे हैं जो 2005 से पहले जंगल को साफ करके खेत बना खेती कर रहे हैं ।बनपट्टा सरकार के ओर से उन्हे अधिकार देने का प्रावधान है। अगर किसी को वनपट्टा का अधिकार नहीे मिला है तो मिलेगा। किसी महिलाओ, बच्चियों के साथ अत्याचार होता है। तो थाने में रिपोर्ट होना चाहिये

डीडीसी

  • इस शिविर से जानकारी प्राप्त करें। अभी चुनाव की घोषणा होने वाली है। मनरेगा की लाभ उठाएं। प्रधानमंत्री आवास का लाभ उठाएं। छत की ढलाई करायें। योजनन की राशि खर्च करें। लाभूक बीडीओ से संपर्क करें। योजना का लांभ लें। कानूनी सलाह भी निःशुल्क दी जाती है। ।

डालसा सचिव

डालसा आरती माला ने कहा जिला प्रशासन और डालसा के सहयोग से यह आयोजन किया जा रहा है जिसका सभी को लाभ मिलेगा। डालसा कानूनी सेवा देती है। डायन बिसाही, जमीन हड़पने का मामले कोर्ट में आती है। पीएलवी मेम्बर्स द्वारा छुट्टियों में डोर-टू-डोर जा कर लोगों को जानकारी दी जा रही है। पीएलवी के माध्यम से लोकल लैंग्वेज में योजनाओं की जानकारी दी जा रही है। आप इसमें रुचि लें। मुफ्त में विधिक सेवा मिलेगा। पीड़ित को मुआवजा राशि भी दी जाती है डालसा के द्वारा। अभी आने वाले दिनों में पोस्ट ऑफिस विभाग के सहयोग से लोगो को जानकारी हेतु डाकघरों में बोर्ड लगेगा। कोर्ट से संबंधित मदद घ बैठे मिलेगी। महिला आयोग की मदद से महिला अधिकारों की जानकारी दी जाएगी। आप हम की जिम्मेदारी है सरकार के जलाए हुए जोत का फायदा उठाने की।

शम्भूनाथ चौधरी

सदर अस्पताल उपाधीक्षक ने कहा कि जननी सुरक्षा योजना अंतर्गत सरकारी अस्पताल में प्रसव पर प्रसूता को 14 सौ रुपये प्रोत्साहन राशि दी जाती है। इसी प्रकार सीएम जन आरोग्य योजना में लाल व पीला राशनकार्ड धारक को गोल्डन कार्ड बनेगा। इसमें निबंधित अस्पताल में 1 बार मे 1 लाख और परिवार को 5 लाख रुपये तक का लाभ इलाज के लिए राशि दी जाएगी। इसी प्रकार मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी योजना में एपीएल व बीपीएल कार्डधारकों को लाभ दिया जाता है। 5 लाख तक की राशि अस्पताल को लाभुक के इलाज के लिए दी जाती है। डॉ चौधरी ने बताया कि कोविड में तृतीय लहर में जिले सदर अस्पताल में 79 बेड ऑक्सीजन पाइपलाइन से कनेक्टेड है। इस शिविर में कोविड जांच और टीकाकरण का स्टॉल लगाया गया है जिसमें सहयोग करें। जल्द ही 2-18 वर्ष की उम्र के लोगों को टिका दिया जाएगा।

श्रम अधीक्षक

श्रम अधीक्षक धीरेंद्र महतो ने कार्यक्रम में ई श्रम पोर्टल में निबंधन व इसके लाभ की जानकारी लोगों को दी।

डीएसओ

जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने बताया कि लाल कार्ड, पीला कार्ड के सुपात्र के लिए हरा रंग का कार्ड भरा जा रहा है। यह कार्ड झारखंड राज्य खाद्य सुरक्षा योजना के तहत दिया जा रहा है।

जिला कृषि पदाधिकारी

जिला कृषि पदाधिकारी ने पीएम कृषि सम्मान योजना, pm कृषि सिंचाई योजना, मुख्यमंत्री कृषि ऋण माफी योजना की जानकारी दी।

विकास मेला में किया गया परिसंपत्तियों का वितरण

विकास मेला में विभिन्न विभागों द्वारा लाभुकों को योजनाओं से लाभान्वित किया गया। अतिथियों द्वारा परिसंपत्तियों का वितरण किया गया। इनमें पशुपालन विभाग द्वारा 07 लाभुकों के बीच बत्तख चूजा, मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजनांतर्गत 04 लाभुकों के बीच बकरा-बकरी का वितरण, कल्याण विभाग द्वारा पांच लाभुकों के बीच बकरा-बकरी का वितरण किया गया। कृषि विभाग द्वारा पांच किसानों को केसीसी पत्र, 10 लाभुकों को दो-दो किग्रा वाले सरसों बीज का पैकेट, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनांतर्गत एक लाभुक को स्पे्र मशीन का वितरण किया गया। मनरेगा अंतर्गत 30 लाभुकों को प्रधानमंत्री आवास के 30 लाभुकों केा स्वीकृति पत्र, पशु शेड के लिए 20 लाभुकों को स्वीकृति पत्र, पांच लाभुकों को जाॅब कार्ड निर्गत किया गया। जेएसएलपीएस महिला मंडल को 15 लाख रूपये का क्रेडिट लिंकेज प्रदान किया गया। इसके अलावा सोना-सोबरन, साड़ी-धोती योजनांतर्गत लाभुकों को वस्त्र प्रदान किया गया।