पड़ोसियों को भी दी थी धमकी,जब आशा पारेख ने एक फैन के डर से खुद को कार में छिपा लिया था

दिग्गज अभिनेत्री आशा पारेख ने एक पुराने इंटरव्यू में खुलासा किया था कि कैसे उन्हें अपने घर के गेट से गुजरते समय अपनी कार में छिपना पड़ा था.

झारखण्ड उजाला , ब्यूरो : दिग्गज अभिनेत्री आशा पारेख ने एक पुराने इंटरव्यू में खुलासा किया था कि कैसे उन्हें अपने घर के गेट से गुजरते समय अपनी कार में छिपना पड़ा था. जब उनका एक ‘डरावना’ प्रशंसक ने खुद को गेट पर तैनात कर लिया था. साल 2017 में इस इंटरव्यू में आशा ने कहा था कि जब पड़ोसियों ने उन्हें जाने के लिए कहा तो उन्होंने उन्हें चाकू दिखाकर धमकाया था. उसने कहा था कि वह आशा से शादी करने के लिए वहां आया है. उसे गिरफ्तार करने के बाद भी एक्ट्रेस को उसका एक पत्र खत मिला था.

मुझे डर लगने लगा था

फिल्मफेयर के साथ एक पुराने इंटरव्यू में आशा ने कहा था, “यह चाइनिज फैन था, जिसने मेरे गेट के पास खुद को तैनात कर लिया था और बस वहां से नहीं जाता था. मेरे आने- जाने पर वह नज़र रखता था. स्वाभाविक रूप से, मुझे डर लगने लगा था. इसलिए जब मेरी कार गेट में घुसी तो मैंने खुद को नीचे छुपा लिया. जब पड़ोसियों ने उसे जाने के लिए कहा, तो उन्होंने यह कहते हुए अपना चाकू लहराया, ‘मैं तुम्हें मार डालूंगा! मैं उनसे शादी करने आया हूं’. मैंने पुलिस कमिश्नर को फोन किया. उन्होंने उसे आर्थर रोड जेल में डाल दिया. वहां से उसने मुझे एक पत्र लिखकर उसे जमानत देने के लिए कहा.यह डरावना था.”

जिन्हें आशा पारेख ने कभी प्यार किया था

आशा पारेख जिन्होंने कभी शादी नहीं की. हाल ही में उन्होंने अपने जीवन के प्यार के बारे में बात की कि, “नासिर साब (फिल्म निर्माता नासिर हुसैन) एकमात्र ऐसे शख्स थे जिन्हें मैंने कभी प्यार किया था. मैं उनसे प्यार करती थी. मैं उनसे प्यार करती थी. लेकिन यह होने का मतलब नहीं था. प्यार में वे दिन छिपे थे. एक पर्दा था. सचाई थी, गहराई थी. लेकिन आज कोई ठहराव (शांत) नहीं है. आज हम इतने व्यावहारिक हो गए हैं, कि हम भावनाओं से हार गए हैं.”

आशा पारेख की सुपरहिट फिल्म

आशा ने अपने करियर की शुरुआत एक चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर बेबी आशा पारेख के नाम से की थी. आशा पारेख ने जब प्यार किसी से होता है (1961), फिर वही दिल लाया हूं (1963), तीसरी मंजिल, और दो बदन (1966), और बहारों के सपने (1967) जैसी कई फिल्मों में काम किया. उन्होंने 1959 में शम्मी कपूर के साथ दिल देके देखो के साथ अपनी शुरुआत की. 2008 में, वह 9एक्स पर रियलिटी शो त्योहार धमाका में जज थीं. उनकी डांस एकेडमी कारा भवन भी है.

Share this...
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published.