साहिबगंज ( उधवा ) । सामाजिक संस्था एमडीसी फाउंडेशन के डायरेक्टर जियाउर रहमान ने कहा कि एक तरफ आम लोग सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क दवाइयों के लिए इधर से उधर भागे फिरते हैं और दूसरी तरफ लाखों रुपये की दवाई रखे-रखे बिना उपयोग के ही स्वास्थ्य कर्मी द्वारा पानी में बहा देना घोर लापरवाही है। प्रखंड में गर्भवती मां- बहनों को आयरन की गोली के लिए जहां मेडिकल स्टोर पर हजारों रुपए की दवा खरीदने पड़ते हैं वहीं स्वास्थ्य कर्मी द्वारा इस तरह से दवाई का बर्बादी करना बिल्कुल ही अनुचित है। विभाग को सचेत रहने की जरूरत है | स्वास्थ्य कर्मीयो के द्वारा ऐसा हरकत शासन- प्रशासन की कमी को उजागर करतीं हैं| वहीं इसके एवज में मदर ड्रीम चेरिटी फाउंडेशन के सदस्य मो० इमदादुल इस्लाम, अताउल मुस्तफा, साबिर आलम, सिराजुल हक, फरजुल हक, अब्दुस समद, राजेश कुमार साह सहित अन्य सदस्यों ने प्रशासन से स्वास्थ्य कर्मी के ऊपर उचित कार्रवाई की मांग की है।